चेहरे पर दाने-फुंसी को ना करें Ignore, चेहरे पर ये 7 लक्षण बता देते हैं आपको होने वाला है कैंसर

कैंसर एक गंभीर और जानलेवा बीमारी है। इसके कई प्रकार हैं जिनमें एक खून का कैंसर या ब्लड कैंसर (Blood Cancer) भी है। ब्लड कैंसर के कई प्रकार है जिसमें सबसे आम ल्यूकेमिया (Leukemia) है। वास्तव में ल्यूकेमिया को खून का कैंसर कहा जाता है। यह आपके अस्थि मज्जा या बोन मेरो में (bone marrow) में विकसित होता है।

बोन मेरो वो स्थान है, जहां रक्त कोशिकाएं बनती हैं। इसकी वजह से आपके शरीर में भारी संख्या में श्वेत रक्त कोशिकाएं (white blood cells) बनने लगती हैं। आमतौर पर श्वेत रक्त कोशिकाएं शरीर को संक्रमण से बचाती हैं। लेकिन ल्यूकेमिया की स्थिति में वे सभी क्षतिग्रस्त श्वेत रक्त कोशिकाएं स्वस्थ रक्त कोशिकाओं को बाहर कर देती हैं। जब ऐसा होता है, त्वचा संबंधी लक्षण हो सकते हैं।

चलिए जानते हैं कि ब्लड कैंसर की स्थिति में आपको अपनी त्वचा पर कौन-कौन से लक्षण पैदा हो सकते हैं।

ल्यूकेमिया त्वचा के लक्षण (Leukemia skin symptoms)
-leukemia-skin-symptoms
पेटीचिया (Petechiae)- लाल रनग के ऐसे घाव जिनमें खून बहता है
एक्यूट माइलॉयड ल्यूकेमिया (एएमएल)- रेड, ब्राउन और पर्पल कलर के दाने, जो त्वचा पर दिखते हैं

मुंह के छाले और सूजे हुए मसूड़े

ल्यूकेमिया कटिस (leukemia cutis)- रेड और पर्पल कलर के बंप जो त्वचा पर दिखते हैं
ब्रश करते समय आसानी से खून आना
त्वचा का रंग बदलना
इम्यूनिटी कमजोर होने की वजह से आसानी से त्वचा संक्रमण होना
पेटीचिया नामक छोटे धब्बे होना

हेल्थलाइन की रिपोर्ट के अनुसार, ल्यूकेमिया वाले कुछ लोगों में यह लक्षण दिखाई देता है। इसमें उनकी त्वचा पर छोटे लाल धब्बे हो जाते हैं। गोरी त्वचा पर ये लाल दाने आसानी से नजर आ सकते हैं। पेटीचिया आमतौर पर वहां होता है, जहां रक्त जमा होने की सबसे अधिक संभावना होती है, जैसे कि पैर, पंजे, हाथ और कंधों पर।

मुंह में छाले और मसूढ़ों में सूजन

कुछ प्रकार के ल्यूकेमिया में मुंह के छाले आम लक्षण हैं। NCBI की एक रिपोर्ट में शोधकर्ताओं का कहना है कि मुंह के छाले और सूजे हुए मसूड़े ब्लड कैंसर के शुरुआती संकेत हो सकते हैं। ऐसा श्वेत रक्त कोशिकाओं के निम्न स्तर या एनीमिया के कारण हो सकता है।

ल्यूकेमिया कटिस (Leukemia cutis)

जब ल्यूकेमिया आपकी त्वचा को प्रभावित करने लगता है, तो आपको ल्यूकेमिया कटिस के लक्षण महसूस हो सकते हैं। इसके लक्षण पहले आपके चेहरे, धड़, और हाथों को प्रभावित कर सकते हैं। इन लक्षणों में त्वचा पर छोटे उभरे हुए उभार, त्वचा के नीचे गांठ, त्वचा पर मोटे पैच, त्वचा के रंग में परिवर्तन, अल्सर और फफोले शामिल हैं।

आसानी से चोट लगना

जब आपकी त्वचा के नीचे की रक्त वाहिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, तो आपको चोट लगने की संभावना अधिक होती है क्योंकि शरीर में खून बहने वाली रक्त वाहिकाओं के लिए पर्याप्त प्लेटलेट्स नहीं बनते हैं। ल्यूकेमिया के घाव किसी भी अन्य प्रकार के खरोंच की तरह दिखते हैं।

आसानी से खून बहना

प्लेटलेट्स की कमी के कारण लोगों को चोट भी लगती है जिससे रक्तस्राव भी होता है। ल्यूकेमिया से पीड़ित लोगों को एक छोटी सी चोट, जैसे कि एक छोटे से कट से भी उनकी अपेक्षा से अधिक खून बह सकता है।

त्वचा के रंग में बदलाव

हालांकि ल्यूकेमिया आपके शरीर पर गहरे रंग के चकत्ते या खरोंच छोड़ सकता है, यह आपकी त्वचा के रंग को अन्य तरीकों से भी प्रभावित कर सकता है। ल्यूकेमिया वाले लोग जिनकी त्वचा का रंग गोरा है, एनीमिया के कारण पीला दिख सकते हैं। यदि आपको एनीमिया है और आपकी त्वचा का रंग गहरा है, तो आप देख सकते हैं कि आपके मुंह, नाक या आंखों में श्लेष्मा झिल्ली नीली दिखती है।