काली मिर्च की खेती से कमाए हर महीने लाखो रूपये, जानिए इस खेती की पूरी डिटेल

भारतीय मसालों की महक पूरी दुनिया में महसूस की जाती है। दुनिया भर में हमारे देश के मसालों की मांग बनी हुई है। विश्व मंच की बात करें तो मसालों के निर्यात में हमारा देश पहले स्थान पर है।

मसाला फसलों का क्षेत्रफल विस्तृत है और लगभग सभी मसालों की खेती देश के किसान करते हैं। इन्हीं में से एक है काली मिर्च। इसकी मांग देश और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हमेशा बनी रहती है। यही कारण है कि खेती करने वाले किसानों को अच्छा लाभ मिलता है।

सबसे अच्छी बात यह है कि इसकी खेती के लिए विशेष देखभाल और पूंजी की आवश्यकता नहीं होती है। यह बहुत महंगा भी बिकता है, जिससे खेती करने वाले किसानों को लाभ मिलता है।

काली मिर्च का उपयोग आमतौर पर गर्म मसाले के रूप में किया जाता है। वर्तमान में इसकी खेती महाराष्ट्र और पुडुचेरी के अलावा भारत, केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में की जाती है। काली मिर्च की खेती के मामले में केरल नंबर वन है। कुल उपज का 98 प्रतिशत इसी राज्य से आता है।

काली मिर्च की खेती पेड़ों के बगीचे में की जा सकती है

काली मिर्च की खेती के लिए तेज धूप और उचित नमी वाले वातावरण की आवश्यकता होती है। यदि तापमान 10 से 40 डिग्री के बीच हो और आर्द्रता 60 से 70 प्रतिशत के बीच हो तो यह काली मिर्च की खेती के लिए सही है। ऐसा मौसम तटीय क्षेत्रों में आसानी से मिल जाता है। इसी वजह से केरल में काली मिर्च की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है।

जानिए काली मिर्च की खेती की पूरी प्रोसेस

इसकी खेती के लिए मिट्टी की मिट्टी सबसे उपयुक्त मानी जाती है। यदि खेत का पीएच मान 4.5 से 6 के बीच हो तो बेहतर उत्पादन प्राप्त होता है। काली मिर्च के पौधे बेल की तरह उगते हैं। इसलिए उन्हें बढ़ने के लिए ऊंचे पेड़ों की जरूरत होती है। यही कारण है कि वे काली मिर्च को अलग-अलग खेतों में लगाने की बजाय ऊंचे पेड़ों वाले बागों में लगाते हैं।

काली मिर्च की बुवाई दो चरणों में होती है। पहले चरण में पौध तैयार की जाती है और दूसरे चरण में रोपाई की जाती है। वृक्षारोपण पेड़ों की जड़ के पास किया जाता है।

नर्सरी तैयार करने के लिए गांठ वाली शाखाओं को पुरानी लताओं से काट दिया जाता है। उन्हें मिट्टी और खाद से भरे पॉलीथिन की थैलियों में डाल दिया जाता है। इस प्रक्रिया के 50 से 60 दिनों के बाद पौध रोपाई के लिए तैयार हो जाती है। रोपाई के लिए हाथ चौड़ा और पर्याप्त गहरा गड्ढा खोदा जाता है। रोपाई के तुरंत बाद सिंचाई करनी चाहिए।

प्रारंभ में, दिन में दो बार सिंचाई की आवश्यकता होती है। समय बीतने के बाद सप्ताह में एक बार ही सिंचाई की जाती है। वर्षा ऋतु में सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती है। किसान भाई 15 से 20 दिन में खरपतवार निकालते रहते हैं। जब पौधे ऊपर चढ़ने लगें तो प्रूनिंग अवश्य करें।

लताओं के विकसित होने के बाद उन पर हरे रंग के गुच्छे दिखने लगते हैं। किसान नवंबर में फसल काटते हैं जब गुच्छों में एक से अधिक फल दिखाई देते हैं। कटाई का काम पूरा करने में 2 महीने का समय लगता है। आम तौर पर एक पौधे से डेढ़ किलो सूखी काली मिर्च मिलती है।