महंगाई ने तोड़ी पाक की कमर, 10 हजार रुपए में मिल रहा एक ट्रेन टिकट, 100 अरब डॉलर का पाक पर कर्ज

कर्ज में डूबा पाकिस्तान पैसे पैसे को मोहताज हो गया है। हालात ये हैं कि आटे के लिए मारामारी, बिजली के गहराते संकट, महंगे पेट्रोल-डीजल के आघात से पाकिस्तानी आवाम बुरी तरह टूट चुकी है। इस समय पाकिस्तान पर 100 अरब डॉलर का कर्ज है। बेतहाशा बढ़ती महंगाई से उबरने के लिए पाक के हुकमरान जो भी प्रयास कर रहे हैं वे सब नाकाफी साबित हो रहे हैं।

 

हालत यह है कि अब बढ़े रेल किराए ने पाकिस्तान की कमर तोड़ दी है। आलम यह है कि अब एक टिकट की कीमत 10 हजार रुपए तक पहुंच गई है। मूलभूत आवश्यकताएं भी पाकिस्तानियों को नसीब नहीं हो पा रही है। हालात इस कदर तक बिगड़ चुके हैं कि कर्मचारियों को 20-25 दिनों बाद तक उनकी सैलरी दी जा रही है और पिछले महीने का वेतन भी अटका ही रहा।

स्पेशल ट्रेन किराए में 25 फीसदी तक बढ़ोतरी
पिछले ही दिनों पाकिस्तान बिजली विभाग ने बिजली के दामों में बढ़ोतरी की। अब पाकिस्तान के रेल मंत्रालय में देश के स्पेशल ट्रेन के किराए में 25 फीसदी की बढ़ोतरी करने का फैसला लिया है। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सस्ते माल के लिए मशहूर चीन से पाकिस्तान ने ट्रेन मंगाई है। पाकिस्तान ने चीन से बनकर आई इसी ग्रीनलाइन एक्सप्रेस ट्रेन की सेवा पिछले महीने 20 दिसंबर से ही बहाल करने का फैसला लिया था। हालांकि आर्थिक तंगी की वजह से सरकार ने अब फैसला किया है कि वो ट्रेन सेवा को 27 जनवरी से शुरू करेगी।

ये ग्रीनलाइन एक्सप्रेस ट्रेन इस्लामाबाद और कराची के बीच चलने वाली है। पाकिस्तान के मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार ने ग्रीन लाइन ट्रेन के किराए में 25 फीसदी की बढ़ोतरी करने का फैसला किया है। यह बढ़ोतरी करके यात्रियों की जेब से पैसा निकालकर अपना खजाना भरने का मंसूबा पाकिस्तानी सरकार पाल रही है।

एक नजर पाक की बदहाल तस्वीरॉ

इस समय पाकिस्तान पर करीब 100 अरब डॉलर का कर्ज भार है, जो दिन प्रतिदिन बढ़ रहा है।

पाकिस्तान में सरकार की तरफ से वितरित हो रहे सस्ते आटे के पैकेट लेने के लिए छीना झपटी और मारामारी हो रही है।

पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ जाने से सफर से लेकर हर चीज के दाम बेतहाशा बढ़ चुके हैं।

 

 

रेल किराये में 25 फीसदी तक की बढ़ोतरी होने से एक टिकट की अधिकतम कीमत 10,000 रुपए तक पहुंच गई है।

हालात इस कदर तक बिगड़ चुके हैं कि कर्मचारियों को 20-25 दिनों बाद तक उनकी सैलरी दी जा रही है

पीएम शहबाज शरीफ लगातार पड़ोसी मुल्क चीन और सऊदी अरब से कर्ज मांग रहे हैं।

एक टिकट की अधिकतम कीमत 10,000 रुपए

 

ग्रीन लाइन एक्सप्रेस ट्रेन में 2 एसी पार्लर, 5 एसी बिजनेस, 6 एसी स्टैंडर्ड और 4 से 5 इकोनॉमी क्लास के कोच हैं। पाकिस्तान रेलवे ने रावलपिंडी से कराची तक ग्रीन लाइन ट्रेन का इकोनॉमी क्लास टिकट बढ़ाकर 4000 रुपए कर दिया है। वहीं कराची से रावलपिंडी के लिए एसी मानक टिकट तो बढ़ाकर 8000 रुपए निर्धारित कर दिया है, जो कि पाकिस्तानी यात्रियों के लिए बहुत बड़ी राशि होती है।

इसी तरह, कराची से रावलपिंडी तक बिजनेस क्लास का किराया बढ़ाकर 10,000 और लाहौर-कराची से 9,500 कर दिया गया है। इससे पहले, रेलवे से संबंधित अधिकारी ख्वाजा साद रफीक को लाहौर से कराची तक ग्रीन लाइन के यात्रा समय को घटाकर 20 घंटे से कम करने का निर्देश दिया, जिससे नेशनल रेलवे में यात्रियों का विश्वास बहाल होगा।

20-25 दिन बाद मिल रही सैलरी
रेलवे विभाग के कर्मचारियों को उनके नियत वेतन और भत्ते भी नहीं मिल पा रहे हैं। इसके साथ ही पिछले एक साल में सेवानिवृत्त हुए कई कर्मचारियों के लिए ग्रेच्युटी के रूप में लगभग 25 अरब रुपए की देनदारी बची हुई है। हालात इस कदर तक बिगड़ चुके हैं कि कर्मचारियों को 20-25 दिनों बाद तक उनकी सैलरी दी जा रही है और पिछले महीने का वेतन भी अटका ही रहा।

100 अरब डॉलर के कर्ज में डूबा है पाकिस्तान
इस समय पाकिस्तान पर 100 अरब डॉलर का कर्ज है। पाकिस्तान के पीएम शहबाज शरीफ लगातार पड़ोसी मुल्क चीन और सऊदी अरब से कर्ज मांग रहे हैं। हालांकि सऊदी अरब ने 10 अरब डॉलर का कर्ज देने का वादा किया है। पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार भी 4 बिलियन डॉलर ही है, जो मौजूदा हालात को देखते हुए काफी कम है। अरब ने भी अब हाल ही में घोषणा कर दी है कि वह बिना शर्त किसी देश को कर्ज नहीं देगा। दावोस में हाल ही में की गई सऊदी अरब की इस घोषणा ने पाकिस्तान की नींद उड़ा दी है।