PM मोदी MP के किसानों को देंगे जीरो बजट खेती का मंत्र, कृषि बिल वापसी के बाद बड़ा दांव

नई दिल्ली: PM Modi Addressing to Farmers: कृषि बिलों (Farm Laws) को वापस लेने के बाद अब जीरो बजट खेती का मंत्र पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) किसानों को देंगे। इसको लेकर मध्य प्रदेश के कोने-कोने पर आयोजन किए जाएंगे। बीजेपी किसान मोर्चे ने इसको लेकर तैयारियां पूरी कर ली है। कांग्रेस ने बीजेपी के इस आयोजन को लेकर निशाना साधा है।

जैविक, शून्य बजट और प्राकृतिक खेती के विकास को लेकर गुजरात के आणंद में किसानों और वैज्ञानिकों का तीन दिवसीय सेमिनार आयोजित किया जा रहा है। सेमिनार के आखिरी दिन 16 दिसम्बर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों, वैज्ञानिकों से सीधा संवाद करेंगे। मध्य प्रदेश किसान मोर्चा इस कार्यक्रम को पूरे प्रदेश में प्रसारित करेगा।

एमपी बीजेपी किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष दर्शन सिंह चौधरी ने ने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने काम संभालते ही कृषि और किसानों की बेहतरी के लिए कदम उठाना शुरू कर दिए हैं। प्रधानमंत्री का जोर प्राकृतिक, जैविक खेती के माध्यम से देश को आत्मनिर्भर बनाना है।

इसी उद्देश्य से गुजरात के आणंद में उन्नत कृषकों, कृषि वैज्ञानिकों, प्रोफेसर्स का एक सेमिनार 14 से 16 दिसम्बर तक आयोजित किया जा रहा है। सेमिनार के अंतिम दिन 16 दिसम्बर को गुजरात के मुख्यमंत्री, राज्यपाल, केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह एवं प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी सेमिनार में भाग लेंगे।

एमपी में पहुंचाएंगे संदेश

सेमिनार के अंतिम दिन 16 दिसम्बर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों, वैज्ञानिकों से शून्य बजट, प्राकृतिक खेती पर संवाद करेंगे। उनके संदेश को प्रदेश के किसानों तक पहुंचाने के लिए किसान मोर्चा प्रदेश के समस्त 1070 संगठनात्मक मंडलों में प्रत्येक मंडी और कृषि विज्ञान केंद्र में बड़ी स्क्रीन पर प्रसारण की व्यवस्था कर रहा है।

इसके लिए विभिन्न क्षेत्रों के अग्रणी और उन्नत किसानों को आमंत्रित किया जाएगा। पार्टी के मंत्री, सांसद, विधायक व जनप्रतिनिधि किसानों के साथ इस कार्यक्रम में उपस्थित रहेंगे। कार्यक्रम सुबह 10 बजे से प्रारंभ होगा, जिसके पहले सत्र में आणंद में आयोजित सेमिनार के निष्कर्ष प्रस्तुत किए जाएंगे। इसके बाद प्रधानमंत्री किसानों को संबोधित करेंगे। कांग्रेस नेता भूपेन्द्र गुप्ता ने इस कार्यक्रम को नौटंकी करार दिया है।