आ गई पानी का सीना चीरकर चलने वाली भारत की पहली अंडर वॉटर ट्रेन, 8 हज़ार करोड़ का आया खर्च

भारत की पहली अंडर वॉटर ट्रेन शीघ्र ही कोलकाता में हुगली नदी के नीचे से शुरू की जाएगी। उत्कृष्ट इंजीनियरिंग का उदाहरण देते हुए यह ट्रेन देश में निरंतर हो रही रेलवे की प्रगति का प्रतीक बनेगी। मंत्री ने आगे लिखा कि इसके बनने से कोलकाता निवासियों को सुविधा और देश को गर्व का अनुभव होगा।

भारत की पहली अंडर वॉटर ट्रेन शीघ्र ही कोलकाता में हुगली नदी के नीचे चलना आरंभ होगी। उत्कृष्ट इंजीनियरिंग का उदाहरण यह ट्रेन देश में निरंतर हो रही रेलवे की प्रगति का प्रतीक है।

कोलकाता मेट्रो की इस नई लाइन के फेज-1 पर जल्द ही मेट्रो सेवा शुरू होने जा रही है। सॉल्ट लेक सेक्टर-5 से सॉल्ट लेक स्टेडियम यानी करीब पांच किलोमीटर लंबी इस मेट्रो लाइन पर कमिश्नर रेलवे सेफ्टी की जांच पूरी हो चुकी है। जल्द ही इसे मंजूरी मिल जाएगी।

बता दें कि कोलकाता मेट्रो भारतीय रेल के अधीन है और रेलवे इस पूरे प्रोजक्ट पर 8 हजार करोड़ से ज्यादा रुपये खर्च किए गए हैं। इसी लाइन पर भारत में पहली बार नदी के अंदर ट्रांसपोर्ट टनल बनाई जा रही है। अप और डाउन लाइन पर यहां दो सुरंगें बनाई जा रही हैं जो करीब 1.4 किलोमीटर लंबी है। हुगली नदी की चौड़ाई करीब 520 मीटर है और इस नदी तल के नीचे से होकर मेट्रो गुजरेगी