पैरालंपिक दीपा मलिक ने खेलों से लिया सन्यास, बनेंगी भारतीय पैरालंपिक समिति की अध्यक्ष

0
266
deepa malik
पैरालंपिक खेलों में भारत के लिए कई पदक जीत चुकी हैं दीपा मलिक (तस्वीर साभार - ट्विटर)

नई दिल्ली. पैरालंपिक खेलों में पदक जीतकर देश का नाम रोशन करने वाली पहली भारतीय महिला पैरालंपिक खिलाड़ी दीपा मलिक ने सन्यास की घोषणा कर दी है. दरअसल, दीपा मलिक भारतीय पैरालंपिक समिति की अध्यक्ष चुनी गई हैं. दीपा मलिक ने सोमवार को अपने सन्यास की घोषणा की.

2016 के रियो पैरालंपिक खेल की गोला फेंक में रजत पदक जीतने वाली 49 साल की दीपा को दिल्ली हाई कोर्ट के निर्देश पर फरवरी में हुए चुनाव मे पीसीआई का अध्यक्ष चुना गया था. पैरालंपिक समिति का अध्यक्ष चुने जाने के बाद दीपा ने सक्रिय खेलों से सन्यास का फैसला किया. हालांकि, खेल मंत्रालय ने पीसीआई को मान्यता देने से इनकार कर दिया है.

सक्रिय खेलों को अलविदा कहने के बाद दीपा ने एक समाचार चैनल से बातचीत में कहा कि दीपा ने कहा, ‘किसने कहा कि मैंने संन्यास लेने की घोषणा अब की? नामांकन पत्र दाखिल करने से पहले पिछले साल सितंबर में ही मैंने संन्यास ले लिया था. उन्होंने कहा, कि उस वक्त मैंने सार्वजनिक घोषणा नहीं की थी.

पैरालंपिक खिलाड़ी ने कहा, ‘मैंने संन्यास से संबंधित दस्तावेज पिछले साल सितंबर में पीसीआई को सौंपा था जब चुनाव प्रक्रिया शुरू हुई थी. इसके बाद ही मैं पीसीआई अध्यक्ष पद के लिए चुनौती पेश कर पाई थी और मैंने चुनाव जीता और अध्यक्ष बनी.’

बता दें कि दीपा मलिक को पिछले साल राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से नवाजा गया था. यह खेलों में उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया जाने वाला सर्वोच्च खेल सम्मान है.

दीपा इस समय भारतीय पैरालंपिक संघ (पीसीआई) की अध्यक्ष हैं, जो खेल मंत्रालय से मान्यता हासिल करने के लिए जद्दोजहद कर रही है. उनका संन्यास की घोषणा करना इस प्रक्रिया की शुरुआत भी है.