IND vs SA: केप टाउन का किला तोड़ पाएगी टीम इंडिया! 30 साल का इंतजार अब भी जारी

डेस्क: IND vs SA 3rd Test: भारत और दक्षिण अफ्रीका (India vs South Africa) के बीच तीन टेस्ट मैचों की सीरीज का आखिरी मुकाबला केपटाउन के मैदान पर खेला जाएगा।

भारत ने सेंचुरियन में खेले गए पहले टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका को 113 रनों से हराया। लेकिन जोहानिसबर्ग में खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका की टीम ने जोरदार पलटवार करते हुए भारत को 7 विकेट से मात दी। सीरीज 1-1 से बराबर है। टीम इंडिया के पास अब भी दक्षिण अफ्रीका (IND vs SA) की धरती पर पहली बार टेस्ट सीरीज जीतने का सुनहरा मौका है।

भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) और हेड कोच राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) केपटाउन के मैदान पर इतिहास रचना चाहेंगे। हालांकि, भारत ने इस मैदान पर आज तक कोई टेस्ट मैच नहीं जीता है।

टीम इंडिया (Team India) ने केप टाउन में अब तक 5 टेस्‍ट मैच खेले हैं। भारतीय टीम ने एक बार भी यहां जीत का स्वाद नहीं चखा है। इस मैदान पर भारत ने दो मुकाबले ड्रॉ कराए हैं जबकि तीन में उसे करारी शिकस्‍त का झेलनी पड़ी है। भारतीय टीम ने आखिरी बार साल 2018 में इस मैदान पर विराट कोहली की कप्तानी में टेस्‍ट मैच खेला था तो उसे 72 रन से हार मिली थी।

केप टाउन के मैदान पर भारत ने पहली बार जनवरी 1993 में टेस्ट मैच खेला था। जवागल श्रीनाथ की घातक गेंदबाजी और सचिन तेंदुलकर की अर्धशतकीय पारी की बदौलत यह मुकाबला ड्रॉ रहा। दूसरी बार भारत 1997 में सचिन तेंदुलकर की कप्तानी में खेला। इस मुकाबले में सचिन तेंदुलकर (169) और मोहम्मद अजहरुद्दीन (113) के शतकों के बावजूद भारत को 282 रनों से हार का सामना करना पड़ा। टीम इंडिया के मुख्य कोच राहुल द्रविड़ भी इस मैदार पर बतौर कप्तान हारे थे। 2007 में दक्षिण अफ्रीका ने 211 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत को पांच विकेट से शिकस्त दी।

महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम साल 2011 में यहां टेस्ट मैच ड्रॉ करने में सफल रही। सचिन तेंदुलकर ने इस मुकाबले में 146 रनों की पारी खेली थी। उनके अलावा गौतम गंभीर ने पहली पारी में 93 जबकि दूसरी पारी में 64 रन बनाकर भारत को हार से बचाया था। केप टाउन में आखिरी बार साल 2018 में भारतीय टीम ने बेहद खराब प्रदर्शन किया था। टीम पहली पारी में 209 और दूसरी पारी में 135 रन पर आउट हो गई थी। हार्दिक पंड्या ने पहली पारी में 93 रन बनाए थे। विराट कोहली, चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे फ्लॉप रहे थे।