Vijay Diwas: 50 साल पहले PAK ने टेके थे घुटने, ‘विजय दिवस’ पर पीएम मोदी ने वीरों को किया नमन

Vijay Diwas: आज से ठीक 50 साल पहले 16 दिसंबर के दिन पाकिस्तान ने भारतीय सेना के सामने आत्मसमर्पण किया था. 1971 भारत-पाकिस्तान वॉर के 50 साल पूरे होने पर बुधवार को दिल्ली स्थित नेशनल वॉर मेमोरियल (National War Memorial) में भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया.

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल वॉर मेमोरियल (National War Memorial) की अमर ज्योति से स्वर्णिम विजय मशाल प्रज्जवलित कर देश के विभिन्न हिस्सों की यात्रा पर रवाना किया.

जवानों को किया नमन

विजय दिवस (Vijay Diwas) के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में पीएम मोदी के साथ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) विपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुख उपस्थित थे.

इस दौरान पीएम मोदी ने 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध की 50वीं वर्षगांठ पर राष्ट्रीय युद्ध स्मारक (National War Memorial) पर जवानों को श्रद्धा सुमन अर्पित किए. पीएम मोदी के साथ थलसेना प्रमुख एमएम नरवणे, वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया और नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने भी जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

चार विजय मशाल रवाना

विजय दिवस (Vijay Diwas) के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल वॉर मेमोरियल (National War Memorial) पर लगातार जलती रहने वाली ज्योति से चार विजय मशाल प्रज्ज्वलित कीं.

यहां से इन मशालों को 1971 के युद्ध के परमवीर चक्र और महावीर चक्र विजेताओं के गांवों सहित देश के विभिन्न भागों के लिए रवाना किया. इन विजेताओं के गांवों के अलावा 1971 के युद्ध स्थलों की मिट्टी को नई दिल्ली के राष्ट्रीय युद्ध स्मारक (National War Memorial) में लाया जाएगा.

स्वर्णिम विजय वर्ष के लोगो का अनावरण

विजय दिवस (Vijay Diwas) कार्यक्रम के दौरान रक्षा मंत्री रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध की 50वीं वर्षगांठ पर ‘स्वर्णिम विजय वर्ष’ के लिए लोगो का अनावरण किया. उन्होंने इस मातृभूमि पर प्राण न्यौछावर करने वाले जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की.

यह भी पढ़ें: योगी को चुनौती देगी AAP, केजरीवाल का ऐलान-यूपी चुनाव लड़ेगी आप

गौरतलब है कि 16 दिसंबर को भारत में विजय दिवस (Vijay Diwas) के रूप में मनाया जाता है. इसी दिन पाकिस्तान के खिलाफ 1971 में भारत को जीत मिली थी और एक देश के रूप में बांग्लादेश अस्तित्व में आया था.