CM योगी ने किया UPSSF फोर्स का गठन,बिना वारंट कर सकती है गिरफ्तार और ले सकती है तलाशी

नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश में नवगठित उत्तर प्रदेश विशेष सुरक्षा बल (UPSSF) को केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) की तर्ज पर अधिकार दिए गए हैं. आधिकारिक तौर पर इसके लिए आज नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया गया है.

सबसे खास बात यह है कि योगी सरकार ने UPSSF को विशेष परिस्थितियों में बिना वारंट गिरफ्तार करने और बिना वारंट तलाशी लेने का अधिकार भी दिया है.

इन स्थितियों में UPSSF उठा सकती है ये कदम

गृह विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल अधिनियम 1968 में यह प्रावधान है कि बल का कोई भी सदस्य उन परिस्थितियों में बिना वारंट और बिना मजिस्ट्रेट की अनुमति के ऐसे किसी भी व्यक्ति को गिरफ्तार कर सकता है, जो उसके विरुद्ध स्वेच्छापूर्वक आ;पराधिक बल का प्रयोग करता है. या उसका प्रयास करता है, हम;ला करता है या हम’ले का प्रयास करता है.

बिना वारंट तलाशी का अधिकारी

प्रवक्ता ने बताया, इसी तरह उन परिस्थितियों में बिना वारंट तलाशी लेने का अधिकार है, जब अपराधी के फ;रार होने अथवा अपराध का सा;क्ष्य न’ष्ट किए जाने की आशंका हो. इन परिस्थितियों में अगर UPSSF अधिकारी उचित समझता है कि किसी व्यक्ति ने ऐसा अप’राध किया है, तो वह उसे गिरफ्तार भी कर सकता है.

ये भी पढ़ें : बड़ा खुलासा: PM Modi, राष्ट्रपति समेत 10 हजार लोगों की जासूसी कर रहा चीन, पूर्व सेनाध्यक्ष भी शामिल

प्रदेश सरकार ने UPSSF को विशेष परिस्थितियों में बिना वारंट के तलाशी लेने और गिरफ्तारी करने का अधिकार दिया है. इसे प्रदेश में मेट्रो रेल, एयरपोर्ट, औद्योगिक संस्थानों, बैंकों, वित्तीय संस्थानों, महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों, ऐतिहासिक, धार्मिक व तीर्थ स्थलों एवं अन्य संस्थानों व जिला न्यायालयों आदि की सुरक्षा में तैनात किया जाएगा. निजी औद्योगिक प्रतिष्ठान भी निर्धारित शुल्क जमा करके इस बल की सुरक्षा प्राप्त कर सकेंगे.