रूस ने किया सबसे तेज Zircon Missile का परीक्षण, पल पर में किसी भी देश को कर सकती है राख

0
246
रूस ने किया सबसे तेज Zircon Missile का परीक्षण, पल पर में किसी भी देश को कर सकती है राख
(Image Courtesy: Google)

नई दिल्ली. पूरे विश्व में सबसे तेज गती से उड़ने वाली Zircon Missile का रूस ने सफल परीक्षण कर दुनिया को चौंका दिया है. पुतिन की सेना ने हाल ही में सफेद सागर में मौजूद अपने नॉर्दन फ्लीट एडमिरल गोर्श्कोव फ्रिगेट से जिरकॉन मिसाइल (Zircon Missile) का टेस्ट किया.

जिरकॉन मिसाइल (Zircon Missile) ने 450 किलोमीटर दूर मौजूद अचूक निशाना लगाया. मिसाइल का टारगेट बैरेंट्स सागर में लगाया गया था.

अब तक की सबसे आधुनिक मिसाइल

रूस इस समय अपने अत्याधुनिक हथि या रों का परीक्षण कर रहा है. इसमें उसके एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम भी शामिल हैं. जिरकॉन मिसाइल (Zircon Missile) ध्वनि की गति से आठ गुना ज्यादा रफ्तार से हमला करती है. यानी यह मिसाइल एक बार चल पड़ी तो इसे रोकना फिलहाल नामुमकिन है. ये अपने टारगेट को राख करके ही रुकेगी. इसी मिसाइल की तर्ज पर भारत की ब्रह्मोस-2के (BrahMos-2K) मिसाइल भी बनाई जा रही है.

एक घंटे में मॉस्को से लॉस एंजिल्स को बना सकती है निशाना

जिरकॉन मिसाइल (Zircon Missile) मैक-8 की गति से उड़ती है, यानी 9878 किलोमीटर प्रतिघंटा. अगर इस मिसाइल को रूस की राजधानी मॉस्को से छोड़ा जाए तो यह एक घंटे बाद लॉस एजिंल्स में जाकर हम ला कर देगी. मॉस्को से लॉस एजिंल्स की दूरी लगभग इतनी ही है.

ये भी पढ़ें: Kisan Andolan: नए कानून पर अडिग रहेगी मोदी सरकार, किसानों से बात करेंगे राजनाथ-अमित शाह

आपको बता दें कि इस मिसाइल परीक्षण से एक दो दिन पहले ही रूस ने अमेरिका को चेतावनी दी थी कि वो अपनी हद में रहे. इस मिसाइल परीक्षण से अमेरिका भी चिंतित है. क्योंकि रूस के रक्षा वैज्ञानिकों का दावा है कि वो पांच मिनट में अमेरिका के कुछ शहर इस मिसाइल के जरिए राख कर सकते हैं.

पुतिन की पसंद है यह मिसाइल

जिरकॉन मिसाइल (Zircon Missile) को रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की पसंद का हथियार बताया जाता है. बैरेंट्स सागर में अपने टारगेट तक इस मिसाइल को पहुंचने में मात्र 4 मिनट लगे. इसके पहले अक्टूबर महीने में पुतिन के जन्मदिन पर रूस ने जिरकॉन मिसाइल (Zircon Missile) का परीक्षण किया था. इसके पहले जनवरी में इस मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया था.

भारत भी बना रहा ब्रह्मोस-2K

आपको बता दें कि भारत के लिए बन रही ब्रह्मोस-2के (BrahMos-2K) मिसाइल जिरकॉन मिसाइल (Zircon Missile) सिस्टम पर ही आधारित है. ब्रह्मोस-2के मिसाइल भी बनने के बाद दुनिया की सबसे तेज मिसाइल हो जाएगी. वह भी जिरकॉन मिसाइल की रफ्तार से ही दुश्मन पर हमला करेगी. दोनों ही हाइपरसोनिक मिसाइलें हैं.

जिरकॉन मिसाइल (Zircon Missile) को दुश्मन इसलिए नहीं पकड़ पाता क्योंकि इसके पीछे दो वजहें हैं. पहली इसकी बेहत तेज रफ्तार, दूसरा यह किसी तय रास्ते यानी ट्रैजेक्टरी के हिसाब से नहीं उड़ती. जिरकॉन मिसाइल अपने रास्ते से इधर-उधर होते हुए दुश्मन की तरफ बढ़ती है. इसलिए उसके रास्ते का पता नहीं चलता. गति इतनी तेज होती है कि टारगेट को भी पता नहीं चलता.