यूपी वालों को मिला प्रधानमंत्री आवास योजना का सबसे ज्यादा फायदा, सरकार ने जारी किए आंकड़े

लखनऊ। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में गरीबों को सबसे अधिक आशियाने मिले हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना (PM Awas Yojna) के साथ ही राज्‍य सरकार ने मुख्‍यमंत्री आवास योजना (Mukhyamantri Awas Yojana) के तहत भी शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबों को आवास दिए हैं।

योगी सरकार (Yogi Govt।) ने गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वालों का सपना पूरा किया है। पिछली सरकारों में मकान के लिए दर दर भटकने वाले गरीबों, मजदूरों के लिए योगी सरकार ने बाहें खोल दी हैं। मुसहर और वनटांगिया वर्ग के साथ पहली बार यूपी में कुष्ठ रोग से प्रभावित परिवारों को भी बड़ी संख्या में मकान आवंटित कर उदाहरण पेश किया है।

प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के तहत 17 लाख 2 हजार 987 आवासों का निर्माण किया गया है और ग्रामीण क्षेत्रों में 26 लाख 15 हजार आवास आवंटित भी कर दिये गये हैं। इसी तरह से मुख्यमंत्री आवास योजना से ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले 1,08,495 लोगों को आवास का तोहफा सरकार ने दिया है। इनमें मुसहर वर्ग को 42,094 आवास, वनटांगिया वर्ग को 4822 आवास और कुष्ठ रोग से प्रभावित परिवारों को 3686 आवास दिये गये हैं।

प्रदेश सरकार की मंशा प्रत्येक वर्ग के जरूरतमंद व्यक्ति की मदद करने की रही है। गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वालों को भी योगी सरकार में अपना मकान मिल गया है। यह पहली बार है जब किसी सरकार ने मुसहर और वनटांगिया वर्ग के साथ-साथ कुष्ठ रोग से प्रभावित परिवारों के बारे में भी सोचा है।