UP Election 2022: स्वामी प्रसाद मौर्य की CM योगी को चेतावनी- ‘आपके बुरे दिन आ गए हैं’

डेस्क: स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में लड़ाई (UP Election 2022) ’85 बनाम 15′ की है। उन्होंने नया नारा दिया और कहा ’85 तो हमारा है 15 (85 vs 15%) में भी बंटवारा है।’

उनका (Swami Prasad Maurya) ये बयान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) को जवाब माना जा रहा है। योगी आदित्यनाथ ने हाल में कहा था कि उत्तर प्रदेश में लड़ाई ’80 बनाम 20′ की है।

मौर्य ने कहा, “आप कहते हो… नारा दे रहे हैं 80 और 20 का। मैं कहता हूं 80-20 नहीं। अब तो होगा 15 और 85 का (मुक़ाबला)। 85 तो हमारा है 15 में भी बंटवारा है।” योगी आदित्यनाथ ने बीते दिनों एक बयान दिया था और कहा था कि ‘उत्तर प्रदेश मुक़ाबला 80 बनाम 20 का है।’

योगी आदित्य़नाथ ने कहा था, “मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं जो ग़लतफहमी के शिकार हैं और अंकगणतीय आंकड़ों को प्रदेश में थोपने का प्रयास कर रहे हैं, मुझे लगता है किसी ग़लतफ़हमी के शिकार होंगे, ये चुनाव 80 बनाम 20 का होगा। 80 फ़ीसदी समर्थन एक तरफ़ होगा, 20 फ़ीसदी दूसरी तरफ होगा। “

कई राजनीतिक विश्लेषक और राजनेताओं ने इस बयान में ’20 प्रतिशत’ को मुसलमानों से जोड़कर देखा। उत्तर प्रदेश में मुसलमान वोटरों की संख्या 19 प्रतिशत के करीब बताई जाती है। स्वामी प्रसाद मौर्य ने इस नारे को अब नए मायने देने की कोशिश की है।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने शुक्रवार को समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली। उन्होंने मंगलवार को योगी आदित्यनाथ सरकार से इस्तीफ़ा दिया था। उनके साथ बीजेपी में रहे कई और नेता समाजवादी पार्टी में शामिल हुए हैं।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने समाजवादी पार्टी में शामिल होने के अपने फ़ैसले को लेकर दावा किया, “आज… (बीजेपी के) बड़े-बड़े नेताओं की नींद उड़ गई।’ उन्होंने आगे कहा, “भारतीय जनता पार्टी के नेता जो कुंभकर्णी नींद सो रहे थे, हमारे इस्तीफ़ा देन के बाद उन्हें नींद नहीं आ रही है।”

बीजेपी पर आरोप

स्वामी प्रसाद मौर्य ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को नाम लेकर तो अमित शाह और दूसरे बड़े नेताओं को बिना नाम लिए चेतावनी दी और कहा कि अब ‘आपके बुरे दिन आ गए हैं।’

मौर्य ने दावा किया, “जो बड़े नेता, अपने को कोई चाणक्य कहता है, कोई महारथी कहता है, उनको भी (हम) कहते हैं, आपके पास जितने दांव हो लगा लो लेकिन मैं आपको पटखनी ज़रूर दूंगा। आपको मिट्टी में मिलाकर रहूंगा। उत्तर प्रदेश को आपके शोषण से मुक्त कराने का वक़्त आ गया है।”

स्वामी प्रसाद मौर्य ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने ग़रीब, पिछड़े और दलित वर्ग की “आंखों में धूल झोंकने का काम किया”। उन्होंने कहा, “सरकार बनाए दलित और पिछड़े। मलाई खाएं वो अगड़े। पांच फ़ीसदी लोग।”

स्वामी प्रसाद मौर्य ने दावा किया कि बीजेपी ने ‘केशव प्रसाद मौर्य और स्वामी प्रसाद मौर्य का नाम उछालकर पिछड़ों के बलबूते पर सरकार बनाई’ लेकिन बहुमत मिलने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बना दिया गया।

‘आपके बुरे दिन आ गए’

स्वामी प्रसाद मौर्य ने बीजेपी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सीधी चेतावनी दी। उन्होंने कई सवाल किए।

मौर्य ने कहा, “आप कहते हो हम हिंदू कार्ड पर चुनाव जीतेंगे। अगर आप बड़े हिंदू के हमदर्द हैं तो अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति पिछड़े वर्गों को भारतीय संविधान के अंतर्गत अधिकार देकर जो आरक्षण की व्यवस्था की गई, उसको अजगर तरह निकलने का पाप क्यों किया आपने?”

उन्होंने कहा, “योगी जी क्या अनुसूचित जाति के लोग हिंदू नहीं हैं क्या? क्या अनुसूचित जनजाति के लोग हिंदू नहीं हैं? क्या क्या 54 फ़ीसदी वाला पिछड़ा वर्ग हिंदू नहीं है? “

जिस समय मौर्य सवाल पूछ रहे थे, लगभग उसी वक्त उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गोरखपुर में अनुसूचित जाति के अमृतलाल भारती के साथ खाना खाने की तस्वीर सामने आईं।

मुख्यमंत्री के हवाले से बताया गया कि उन्होंने ‘खिचड़ी सहभोज के लिए आमंत्रित करने पर भारती को धन्यवाद’ दिया है। दूसरी तरफ, मौर्य ने दावा किया कि उनके साथ छोड़ने के बाद पिछड़े और दलित समर्थकों के एक बड़े वर्ग ने भारतीय जनता पार्टी से किनारा कर लिया है।

उन्होंने दावा किया, “भारतीय जनता पार्टी उस दिन तक तीसरे नंबर पर थी जब तक मैं बहुजन समाज पार्टी में था। भारतीय जनता पार्टी के लोगों को कहना चाहता हूं कि आपके बुरे दिन आ गए। मेरे बाद आपका साथ छोड़ने वालों का लंबा कतार चल रहा है। इस्तीफ़ा देने का ये सिलसिला चलता रहेगा। जब 10 तारीख को परिणाम आएगा मैं दावे के साथ कहना चाहता हूं कि आपको फिर दहाई पर लाने का काम करूंगा। ये सुनामी भाजपा को उखाड़कर सीधे हिंद महासागर में डुबोने का काम करेगी।”

“2022 के जनादेश की बारी है आई है तब मैंने ताला ठोका है। ये मैदान मुलायम सिंह यादव का है। अब नेताजी की फौज चरखा दांव लगाकर भाजपा को पटखनी देगी।”

अखिलेश का दावा-बदलाव चाहते हैं लोग

वहीं, स्वामी प्रसाद मौर्य और दूसरे नेताओं का समावादी पार्टी में स्वागत करते हुए पार्टी के प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दावा किया कि ’80 प्रतिशत लोग समाजवादी पार्टी के साथ हैं’ और वो बदलाव चाहते हैं। उन्होंने ये भी दावा किया कि बीजेपी और मौर्य और दूसरे नेताओं की रणनीति नहीं समझ पाई।

अखिलेश यादव ने कहा, “बीजेपी नेता हिट विकेट हो गए। हमारे तमाम नेताओं की रणनीति नहीं समझ पाए। समझ जाते तो न जाने किस डैमेज कंट्रोल में नहीं लग जाते?” उन्होंने मीडिया पर भी चुटकी ली। अखिलेश यादव ने कहा, “पत्रकार साथियों को भी पता नहीं चला।”

मौर्य की नई पारी

स्वामी प्रसाद मौर्य ने मंगलवार को योगी मंत्रिमंडल से इस्तीफ़ा दे दिया था। उन्होंने बीजेपी पर ‘दलितों, पिछड़ों, किसानों, बेरोजगार नौजवानों एवं छोटे-लघु एवं मध्यम श्रेणी के व्यापारियों की घोर उपेक्षा’ का आरोप लगाया था।

मौर्य के बाद दारा सिंह चौहान और धर्म सिंह सैनी ने भी योगी मंत्रिमंडल से इस्तीफ़ा दे दिया। स्वामी प्रसाद मौर्य ने शुक्रवार को अखिलेश यादव की मौजूदगी में हुए एक कार्यक्रम में कहा, ” आज का एतिहासिक दिन परिवर्तन लाने का दिन है। ये दलितों और पिछड़ों के सम्मान का दिन है। “

मौर्य साल 2016 में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए थे। उनके पहले वो बहुजन समाज पार्टी में थे। मौर्य के साथ धर्म सिंह सैनी, भगवती सागर समेत कई और नेताओं ने समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की है।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.