पायलट की तरह अब काम करेंगे ट्रक ड्राइवर, परिवहन मंत्री ने किया गडकरी ने किया ऐलान

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) के अनुसार, ट्रक ड्राइवरों के लिए काम के घंटे निर्धारित करने के लिए एक कानून लाया जाएगा और 2025 के अंत से पहले सड़क दुर्घटनाओं (Road Accidents) को 50 प्रतिशत तक कम करने का प्रयास किया जा रहा है।

‘सड़क सुरक्षा अभियान’ में बताया अपना प्लान

सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान एक आउटरीच अभियान ‘सड़क सुरक्षा अभियान’ में भाग लेते हुए, उन्होंने कहा कि सड़क मंत्रालय सड़क दुर्घटनाओं और चोटों में कमी के लिए प्रतिबद्ध है और सड़क सुरक्षा के सभी 4E – इंजीनियरिंग (Engineering), प्रवर्तन (Enforcement), शिक्षा (Education) और आपातकालीन देखभाल (Emergency Care) में कई पहल की है।

बुधवार को एक आधिकारिक बयान के अनुसार, मंत्री ने कहा कि ट्रक चालकों के लिए काम के घंटे निर्धारित करने के लिए एक कानून लाया जाएगा। इस वर्ष, मंत्रालय ने ‘सभी के लिए सुरक्षित सड़कों’ के कारण का प्रचार करने के लिए ‘स्वच्छता पखवाड़ा’ के तहत 11 से 17 जनवरी तक सड़क सुरक्षा सप्ताह (RSW) मनाया।

अमेरिका में ट्रक ड्राइवरों के लिए कार्य अवधि तय हैं
फेडरल मोटर कैरियर सेफ्टी एडमिनिस्ट्रेशन (FMCSA) के अनुसार अमेरिका में ट्रक चलाने वालों की कार्य अवधि तय है। उनके लिए यह नियम बनाया गया है कि वे एक निर्धारित अवधि तक ड्राइव करने के बाद कितनी देर तक ब्रेक लेंगे और एक निर्धारित अवधि तक रेस्ट लेने के बाद कितनी देर तक ड्राइव करेंगे।

दस घंटे की लगातार छुट्टी के बाद अधिकतम 11 घंटे चला सकते हैं गाड़ी
प्रापर्टी कैरिंग ड्राइवर्स दस घंटे की लगातार छुट्टी के बाद अधिकतम 11 घंटे गाड़ी चला सकते हैं। ड्राइवर लगातार 10 घंटे की ड्यूटी से छुट्टी के बाद लगातार 14 घंटे से ज्यादा ड्राइव नहीं कर सकते। ऑफ-ड्यूटी समय 14 घंटे की अवधि से ज्यादा नहीं बढ़ता है। ड्राइवरों को कम से कम 30 मिनट की रुकावट के बिना कुल 8 घंटे की अवधि के लिए ड्राइव करने पर 30 मिनट का ब्रेक लेना होगा।

अगर भारत में भी ट्रक ड्राइवरों के लिए सड़क पर ड्राइव करने की समय सीमा तय कर दी जाए तो इससे हादसों को रोकने में मदद मिलेगी। आम तौर पर ड्राइवरों पर जल्दी से जल्दी एक जगह से दूसरी जगह पहुंचने का दबाव होता है। इसके चक्कर में तेज ड्राइव करने और बिना ब्रेक लिए कई-कई घंटे गाड़ी चलाने से कई बार दुर्घटनाएं हो जाती हैं।