दिल्ली हिं’सा: Tahir Hussain, इशरत जहां समेत 5 लोगों को साजि’श रचने को मिले थे 1.61 करोड़, पुलिस का खुलासा

नई दिल्ली. दिल्ली हिं’सा को लेकर दिल्ली पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है. पुलिस का कहना है कि बर्खास्त आम आदमी पार्टी पार्षद ताहिर हुसैन (Tahir Hussain), पूर्व कांग्रेस पार्षद इशरत जहां, एक्टिविस्ट खालिद सैफी, जामिया मिलिया इस्लामिया एलुमनाई एसोसिएशन अध्यक्ष शिफा उर रहमान और जामिया के छात्र मीरन हैदर ने नागरिता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों का प्रबंध करने के लिए 1.61 करोड़ रुपये दिए गए थे.

पुलिस का आरोप है कि इन लोगों ने ही फरवरी में पूर्वी दिल्ली में हिं’सा फैलाने की साजि’श रची थी.

चार्जशीट में Tahir Hussain समेत कई नामों का खुलासा

दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में 15 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दायर की है, जिसमें उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिं’सा भ’ड़ काने के लिए कई लोगों को एक बड़ी साजि’श का हिस्सा माना गया है. चार्जशीट में कहा गया है, जांच के दौरान पता चला है कि 1 दिसंबर, 2019 से 26 फरवरी, 2020 के दौरान कुल 1,61,33,703 रुपये इशरत जहां, खालिद सैफी, ताहिर हुसैन (Tahir Hussain) , शिफा उर रहमान और मीरन हैदर को मिले थे.

इन लोगों को यह पैसा बैंक अकाउंट या नकद में मिली थी. कुल 1.61 करोड़ रुपये में से 1,48,01186 रुपये नकद के रूप में निकाले गए और विरोध प्रदर्शन स्थलों के प्रबंधन के साथ-साथ दिल्ली में दं’गों में रची गई साजि’श को अंजाम देने के लिए खर्च किए गए.

इशरत के खाते में मिले पैसे

समाचार एजेंसी पीटीआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक, चार्जशीट में दावा किया गया है कि आगे की जांच में पाया गया है कि 10 दिसंबर को आरोपी इशरत जहां ने अपने बैंक खाते में 4 लाख रुपये एक कॉरपोरेशन बैंक खाते से प्राप्त किए. जांच करने पर महाराष्ट्र से महादेव विजय कास्ते के नाम से खाता पाया गया.

जांच के दौरान कास्ते ने खुलासा किया कि वह इशरत जहां को सीधे नहीं जानता है और वह महाराष्ट्र के रहने वाले समीर अब्दुल साई के लिए ड्राइवर का काम करता है. चार्जशीट में कहा गया है कि कास्ते ने बताया कि अब्दुल साई के निर्देश पर उसने आईसीआईसीआई बैंक से 4,31,700 रुपये का गोल्ड लोन लिया. इस राशि को आईसीआईसीआई बैंक से उस कॉरपोरेशन बैंक अकाउंट में ट्रांसफर किया गया. साई ने पूछताछ में बताया है कि गाजियाबाद का इमरान सिद्दीकी उसका बिजनेस पार्टनर है.

ये भी पढ़ें : ड्र ग के जाल में फंसी एक्ट्रेस Deepika Padukone, मैनेजर से चैट में पूछा-माल है क्या?

चार्जशीट में कहा गया है, ‘9 दिसंबर, 2019 को इमरान ने इशरत जहां, गुलज़ार अली और बिलाल अहमद से संबंधित तीन बैंक खाता नंबर दिए थे और उसे इन 3 खातों में तत्काल 10 लाख रुपये ट्रांसफर करने के लिए कहा था. जैसा कि उन्होंने 10 लाख रुपये ट्रांसफर करने में असमर्थता जताई, उन्होंने तुरंत इशरत जहां के खाते में 5 लाख रुपये डालने का आग्रह किया.’ पुलिस ने चार्जशीट में आगे आरोप लगाया है कि जहां के बैंक खातों की जांच करने पर यह पाया गया कि 10 जनवरी, 2020 को उसके खाते में 1, 41,000 रुपये नकद जमा थे.