सुशांत के दोस्त गणेश बोले-मुझे सुरक्षा मिली तो CBI को बताऊंगा सबके नाम… मेरी जान को खतरा

नई दिल्ली। दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत का मामला गंभीर होता जा रहा है। इस मामले ने अब तक कई मोड़ ले लिए हैं। मिस्ट्री बन चुके इस केस की जांच अब सीबीआई कर रही है। इस बीच सुशांत के दोस्त गणेश हिवारकर ने दावा किया है कि सुशांत की जान ली गई है।

करीब दो महीने के बाद सुशांत के दोस्त ने दावा किया है कि उन्हें सबके नाम पता है, जिन्होंने ये प्लान किया। गणेश ने सुरक्षा की मांग करते हुए कहा कि मुझे सुरक्षा मिली तो सबके नाम सामने लेकर आउंगा।

टीवी इंटरव्यू में खोला राज

समाचार चैनल रिपब्लिक से बात करते हुए गणेश ने बताया कि वह जानते हैं कि सुशांत के घर 6 लोग कौन आए थे? उन्होंने ये भी कहा है कि वह सभी के नाम सीबीआई को बता सकते हैं। वह सीबीआई से बात करने के लिए तैयार हैं। गणेश ने कहा कि इस मामले में उन्हें मुंह बंद रखने की ध’म;की मिल रही है।

गणेश ने कहा कि सुशांत के घर पर 13 जून को पार्टी हुई थी। इसमें 5 से 6 लोग शामिल थे। ये सभी लोग दिशा सालियान के बारे में भी जानते थे। इसके बारे में ही वे सभी सुशांत के घर उनसे बात करने पहुंचे थे।

सुशांत जल्द एक प्रेस कॅान्फ्रेंस करने वाले थे

दिशा सालियान को लेकर सुशांत जल्द एक प्रेस कॅान्फ्रेंस करने वाले थे। इस बारे में सुशांत के घर पहुंचे 5-6 लोगों को पता था। सुशांत ने ये बात संदीप सिंह को बताई थी। सुशांत के घर जो लोग पहुंचे थे वो संदीप सिंह को भी जानते थे।

सुशांत की जान ली गई

गणेश ने दावा किया कि संदीप और सुशांत की बातचीत के बाद ही सुशांत के घर पर कुछ लोग उनसे बात करने पहुंचे थे। गणेश ने कहा कि उनकी ह;त्या हुई है। साथ ही ये भी बताया कि फोन पर उन्हें इस मामले पर चुप रहने के लिए धमकी मिल रही है।

गणेश ने एक वेबसाइट से बातचीत में ये भी कहा है कि रात को 2 बजे कुछ लोग उन्हें मा;र’ने के लिए सरिया लेकर भी पहुंचे थे। उन्होंने मुंबई पुलिस को फोन भी किया था। लेकिन दो घंटे तक पुलिस उनके घर नहीं पहुंची।

गणेश ने कहा मुझे बचाया है सुशांत ने अब मेरी बारी है

चैनल से बातचीत में गणेश ने बताया कि उनकी और सुशांत की मुलाकात साल 2007 में हुई थी। गणेश ने कहा कि उनका गर्लफ्रेंड के साथ ब्रेकअप हो गया था। उनके मन में भी जा;न देने के ख्याल आ रहे थे। तभी सुशांत ने उनके घर पर आकर उन्हें घंटों तक समझाया। गणेश ने कहा कि उन्हें यकीन नहीं होता कि ऐसा इंसान खुद ऐसा कदम उठा सकता है।