लॉकडाउन में फंसे युवक ने मांगी मदद, सोनू सूद बोले- चल मां-पापा से मिलवा लाता हूं

नई दिल्ली. मुंबई में फंसे लाखों प्रवासी बस किसी तरह अपने घर पहुंचना चाह रहे हैं. ऐसे समय में सबकी जुबां पर सिर्फ एक नाम है.. सोनू सूद. बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद लॉकडाउन के दौरान दिन-रात एक करके प्रवासियों को अपने घरों तक सुरक्षित पहुंचाने में जी जान से जुटे हुए हैं.

सोशल मीडिया के जरिए वह लगातार लोगों के संपर्क में है. ट्विटर पर लोग उनसे मदद की गुहार लगा रहे हैं और सोनू भी तुरंत उन लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं. रवि नाम के एक शख्स ने आज ट्विटर पर सोनू सूद से मदद की गुहार लगाई.

ट्विटर पर लोग ऐसे मांग रहे मदद

रवि ने सोनू सूद को टैग करते हुए लिखा, ‘सर कांदिवली में फंसा हुआ हूं. अकेला हूं बहुत दिक्कत हो रही है. अपने सच्चे प्यार मां-पापा के पास जाना है, फिर मर भी जाएं तो गम नहीं होगा.’ रवि के ट्वीट का चंद मिनटों पर रिप्लाई करते हुए सोनू ने लिखा, ‘मरेंगे तेरे दुश्मन, चल मां-पापा से मिलवा लाता हूं.’

इसी तरह शैलेश चौधरी नाम के एक शख्स ने भी ट्विटर पर सोनू से मदद की गुहार लगाई. उसने लिखा, भाई मेरे ट्वीट का भी रिप्लाई कर दो.. घर वापस जाना चाहता हूं. मुंबई अंधेरी ईस्ट में फंसा हुआ हूं और मुझे बस्ती, उत्तरप्रदेश पिन कोड-272002 जाना है. इस पर सोनू ने जवाब देते हुए लिखा, ‘बस्ती जाने के लिए पिन कोड नहीं अपना नंबर भेज भाई. मां बुला रही है तुझे’.

सामने आया सोनू का लेटेस्ट वीडियो

वहीं भारतीय फिल्म इंडस्ट्री के वीकली जर्नल ‘कम्पलीट सिनेमा’ के एडिटर व फिल्म बिजनेस एनालिस्ट अतुल मोहन ने आज एक वीडियो शेयर किया है. इस वीडियो सोनू सूद द्वारा मुंबई से घर भेजे जा रहे प्रवासी मजदूरों को दिखाया गया है.

यह भी पढ़ें : प्रवासी मजदूरों के लिए सोनू सूद ने खोले दिल के दरवाजे, कहा-पैदल घर क्यों जाओगे दोस्त, नंबर भेजो

अतुल मोहन ने ट्वीट कर लिखा, ‘यूपी और बिहार के प्रवासियों को घर भेजने में मदद कर रहे सोनू सूद के लेटेस्ट विजुअल. गरीबों के नए सुपरहीरो अब तक 12 हजार से ज्यादा प्रवासियों को उनके घरों तक पहुंचा चुके हैं. ऐसी कोई विपदा नहीं जो उन्हें रोक सके. नीति गोयल के साथ मिलकर सोनू सूद के इस अभियान का नाम है ‘घर भेजो’.

हजारों लोगों को खिला रहे खाना

बता दें कि सोनू सूद पहले भी कई मजदूरों को उनके घर पहुंचा चुके हैं. वह ट्विटर और सोशल मीडिया के जरिए उन लोगों से संपर्क कर रहे हैं, जिन्हें मदद की जरूरत है. इसके साथ ही सोनू सूद ने अपने फाइव स्टार होटल के दरवाजे भी मेडिकल कर्मचारियों के लिए खोल रखे हैं.

देशभर में लॉकडाउन घोषित होने के बाद सोनू सूद ने अपने पिता शक्ति सागर सूद के नाम पर एक स्कीम शुरू की थी. इस स्कीम के तहत वह हर दिन 45 हजार लोगों को खाना खिला रहे थे.

Comments are closed.