गांधी जयंती पर Sonia Gandhi का केंद्र पर निशाना, कहा- किसानों को मोदी सरकार रुला रही है खू;न के आंसू

नई दिल्ली. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 151वीं जयंती के मौके पर अंतरिम कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने कहा कि किसान कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. उन्होंने मोदी सरकार पर किसानों को खू;न के आंसू रुलाने का आरोप लगाया.

सोनिया गांधी ने एक वीडियो संदेश जारी करके मोदी सरकार पर हमला बोला है.

क्या बोली Sonia Gandhi

कांग्रेस अध्यक्ष Sonia Gandhi ने कहा, ‘मेरे प्यारे कांग्रेस के साथियों किसान-मजदूर भाईयों और  बहनों, आज किसानों, मजदूरों और मेहनतकशों के सबसे बड़े हमदर्द महात्मा गांधी की जयंती है. गांधी जी कहते थे भारत की आत्मा, भारत के गांव खेत और खलिहान में बसते हैं.’

सोनिया गांधी ने कहा, ‘आज जय जवान जय किसान का नारा देने वाले हमारे पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की भी जयंती है. लेकिन आज देश का किसान और मजदूर कृषि विरोधी तीन काले कानूनों के खिलाफ सड़कों पर आंदोलन कर रहे हैं. अपना खू;न पसीना देकर देश के लिए अनाज उगाने वाले अन्नदाता किसान को मोदी सरकार खू;न के आंसू रुला रही है.’

अन्नदाता के साथ घोर अन्याय

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘कोरोना महामारी के दौरान हम सबने सरकार से मांग की थी कि हर जरुरतमंद देशवासी को मुफ्त में अनाज मिलना चाहिए. तो क्या हमारे किसान भाईयों के बगैर यह संभव था कि हम करोड़ों लोगों के लिए दो वक्त के भोजन का प्रबंध कर सकते थे. आज देश के प्रधानमंत्री हमारे अन्नदाता किसानों पर घोर अन्याय कर रहे हैं. उनके साथ नाइंसाफी कर रहे हैं.’

कानून बनाने से पहले कोई सलाह नहीं ली

सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने कहा कि कानून बनाने से पहले किसानों से सलाह मशवरा तक नहीं किया गया. उन्होंने कहा, ‘जो किसानों के लिए कानून बनाए गए हैं उनके बारे में उनसे सलाह मशवरा तक नहीं किया गया. बात तक नहीं की गई’.

ये भी पढ़ें: Gandhi Jayanti 2020: बापू की 151वीं जयंती, राजघाट पर राष्ट्रपति और पीएम मोदी ने दी श्रद्धांजलि

कांग्रेस अध्यक्ष Sonia Gandhi ने कहा, ‘यही नहीं उनके हितों को नजरअंदाज करके चंद दोस्तों से बात करके किसान विरोधी तीन काले कानून बना दिए गए हैं. जब संसद में भी कानून बनाते वक्त किसान की आवाज नहीं सुनी गई तो वे अपनी बात शांतिपूर्वक रखने के लिए महात्मा गांधी जी के रास्ते पर चलते हुए मजबूरी में सड़कों पर आए हैं. लोकतंत्र विरोधी, जन विरोधी सरकार द्वारा उनकी बात सुनना तो दूर उनपर लाठियां बरसाई गईं.’