राहुल-प्रियंका की रैली पर स्मृति का तंज- ‘चंद लोग तक नहीं जुटा पाए भाई-बहन’

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के अमेठी में कांग्रेस नेताओं – राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा की पदयात्रा के लिए उनपर कटाक्ष किया और कहा कि कांग्रेस नेताओं को लखनऊ और छत्तीसगढ़ से लोगों को जुटाना पड़ा, जो अमेठी से उनके संबंध के बारे में काफी कुछ बयां करता है।

राहुल ने अमेठी में की पदयात्रा

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल और उनकी बहन प्रियंका ने अमेठी में जगदीशपुर से हरिमऊ गांव तक पैदल मार्च निकाला, जहां पहुंचकर राहुल गांधी ने एक जनसभा को संबोधित किया। वे नरेंद्र मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ आयोजित जन जागरण अभियान ‘भाजपा भगाओ, महंगाई हटाओ प्रतिज्ञा पदयात्रा’ में हिस्सा ले रहे थे।

स्मृति ने अमेठी में चटाई थी धूल

गौरतलब है कि राहुल गांधी 15 साल तक अमेठी से सांसद रह चुके हैं। वह साल 2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा की स्मृति ईरानी से 55,120 मतों से हारने के बाद दूसरी बार अमेठी के दौरे पर हैं। 2019 से पहले अमेठी नेहरू-गांधी परिवार का गढ़ हुआ करता था।

स्मृति ईरानी ने कसा तंज

अमेठी की सांसद ईरानी से जब पदयात्रा के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘आज भाई-बहन अमेठी में थे। उन्हें लखनऊ, संत कबीर नगर और छत्तीगढ़ से भीड़ लानी पड़ी, किसी को आज बहुत मेहनत करनी पड़ी है।’

अमेठी के बाहर से मंगाने पड़े लोग!

उन्होंने कहा, ‘तथ्य यह है कि आप (नेहरू-गांधी परिवार) 50 वर्षों से एक निर्वाचन क्षेत्र के प्रतिनिधि थे, लेकिन अब हालत यह हो गई है कि आपको लखनऊ से 50 लोगों को अमेठी लाना पड़ा। यह मेरे निर्वाचन क्षेत्र से उनके संबंध के बारे में बहुत कुछ बताता है।’