Shaheen Bagh Protest: दिहाड़ी पर बिठाए गए थे शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी, Sharjeel Imam मास्टरमाइंड

नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस ने शाहीन बाग (Shaheen Bagh Protest) में लंबे समय तक चले विरोध प्रदर्शन का मास्टरमाइंड शरजील इमाम (Sharjeel Imam) को बताया है. दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में दायर अपनी चार्जशीट में कहा है कि शाहीन बाग (Shaheen Bagh Protest) में रहने वाले लोग पहले विरोध प्रदर्शन के खिलाफ थे. उसके बाद शरजील इमाम (Sharjeel Imam) ने उन पर गंभीर परिणाम भुगतने की ध म’की दी थी.

बता दें कि शरजील इमाम (Sharjeel Imam) उन 15 लोगों में शामिल है जिन्हें दिल्ली हिं सा का आरोपी बनाया गया है.

पुलिस के पास Sharjeel Imam के खिलाफ सुबूत

चार्जशीट में कहा गया, ‘सड़क जाम करने से पहले इमाम ने शाहीन बाग (Shaheen Bagh Protest) में सीएए / एनआरसी के खिलाफ भ्रामक पर्चे बांटे गए, जो मुस्लिम बहुल क्षेत्र है. उन्होंने स्थानीय निवासियों की भावनाओं को भ ड़;काया, जिसकी वजह से विरोध तेज हुआ.

ये भी पढ़ें : पाक के खास दोस्त तुर्की ने संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर पर फिर उगला जहर, भारत ने कर दी बोलती बंद

अपने दावों की पुष्टि करने के लिए पुलिस ने गवाहों के बयान फेसबुक पोस्ट, व्हाट्सएप चैट और मोबाइल फोन से तमाम ऐसी बातें बरामद की है. आरोप पत्र में कहा गया है कि प्रद र्शनकारियों ने शुरू में सड़क को बंद कर दिया था जो स्थानीय नहीं थे. इसमें कहा गया है कि स्थानीय निवासी इस नाकाबंदी के खिलाफ थे.

जेसीसी बड़ी सा जिश का हिस्सा

पुलिस ने दावा किया कि जामिया समन्वय समिति (जेसीसी) बनाने का उद्देश्य भी एक बड़ी सा जिश का हिस्सा था. चार्जशीट के अनुसार यह मुस्लिम बहुसंख्यक इलाकों में 24×7 सिट-इन विरोध स्थलों पर छात्रों, महिलाओं और बच्चों को जुटाने के लिए बनाया गया था कि ताकि पूरी सड़क को जाम किया जा सके.

महिलाओं और बच्चों का इस्तेमाल

आरोपपत्र में कहा गया है कि जेसीसी ने एक विशेष समुदाय के अधिक से अधिक महिलाओं और बच्चों को प्रदर्शनस्थल (Shaheen Bagh Protest) पर जाने के लिए कहा, ताकि पुलिस से प्रभावी कार्रवाई करने से रोकने के लिए जुटाया. इसने आगे दावा किया कि जेसीसी ने 24×7 सिट-इन विरोध स्थलों पर लोगों को जुटाने और इंजीनियरिंग हिं सा और दं गों के लिए सिम कार्ड का इस्तेमाल किया.

हर रोज बांटा गया पैसा

आरोप पत्र में दावा किया गया है कि जेसीसी सदस्यों ने महिला प्रदर्शनकारियों के बीच रोज के हिसाब पैसा वितरित किया गया ताकि 24 घंटे इन विरोध स्थलों पर पर्याप्त संख्या में लोग इकट्ठे रहें.

जेसीसी मीडिया टीम की स्थापना सफूरा ज़र्गर ने की थी, जिन्होंने विरोध प्रदर्शन (Shaheen Bagh Protest) से संबंधित संदेशों, ऑडियो और वीडियो की को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया. जेसीसी कार्यालय में शाम को नियमित रूप से बैठकें आयोजित की जाती थीं और प्रमुख सदस्यों ने विरोध स्थलों की खातिर आम साजिश के लिए आगे की रणनीति और योजनाओं को बनाने में भाग लिया जाता था.