SAS Special Air Service Uniform: इस तस्वीर में छिपे सेना के जवान को क्या ढूंढ पाए आप

0
180
SAS Special Air Service Uniform: इस तस्वीर में छिपे सेना के जवान को क्या ढूंढ पाए आप
(Image Courtesy: Google)

SAS Special Air Service Uniform. किसी भी देश की सेना अपने दुश्’मनों से अपने देश की रक्षा करते हैं. हर देश अपनी सेना को अच्छी से अच्छी ट्रेनिंग देता है, ताकि वह मुश्किल हालातों का सामना कर सके. भारतीय सेना के जवान कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक देश की हिफाजत करते हैं. जिस तरह भारतीय सेना के जवान लद्दाख जैसे दुर्गम बर्फीले स्थानों पर 24 घंटे सातों दिन तैनात रखकर सीमा की रखवाली करते हैं, ठीक उसी तरह ब्रिटिश आर्मी के SAS (Special Air Service) जवान भी बर्फीले स्थानों पर अपने देश की रक्षा करते हैं.

इन दिनों सोशल मीडिया पर SAS (Special Air Service) जवानों की तस्वीर वायरल हो रही है. इस तस्वीर में बर्फीली वादियों के छिपे जवान को ढूंढ पाना नामुमकिन है. इसे गौर से देखने के बाद भी लोग इन जवानों को ढूंढ नहीं कर पा रहे.

तस्वीरें हो रही वॉयरल

डेली स्टार रिपोर्ट्स में पब्लिश SAS (Special Air Service) जवानों की ये तस्वीर काफी वायरल हो रही है. बर्फ में छिपे जवानों को इस तस्वीर में ढूंढ पाना काफी मुश्किल हो रहा है. इन जवानों को इस तरह ट्रेनिंग दी जाती है कि ये दुश्मनों की नाक के नीचे उनपर अ;टै क कर सकते हैं.

SAS (Special Air Service) के ये जवान नॉर्वे से लेकर अफगानिस्तान में दुश्म’नों को हरा चुके हैं. अगर आप गौर से इस तस्वीर को देखेंगे तो समझ जाएंगे कि इन्हें किस तरह से ट्रेनिंग दी जाती है. इनके कपड़े इस तरह से डिजाइन किये जाते हैं कि वो आसपास की जगह में घुल मिल जाते हैं. इस आर्मी में शामिल जवान दुनिया के बेस्ट क्लाइम्बर्स होते हैं. इन्हें एवरेस्ट की चढ़ाई की भी ट्रेनिंग दी जाती है.

क्या है SAS (Special Air Service)

SAS (Special Air Service) की स्थापना 1941 में की गई थी. ब्रिटिश आर्मी के काफी अहम इस हिस्से से दुनिया के कई दुश्मन देश डरते हैं. आपको बता दें कि भारत में भी सियाचिन में तैनात भारतीय जवानों को भी इन्हीं जवानों की तरह ट्रेनिंग दी जाती है. इसमें बर्फ में डटकर दुश्मनों पर हम ला करने के तरीके, उनके कपड़े और चढ़ाई की कड़ी ट्रेनिंग दी जाती है.

भारतीय जवान भी किसी से कम नहीं

बात अगर भारतीय सेना की करें, तो यहां के जवानों को बाहर के दुश्मनों से ज्यादा देश के अंदर ही नक्सवादियों से खतरा रहता है. ऐसे में उन्हें जंगलों में दुश्मनों से टक्कर लेनी पड़ती है. इस वजह से भारत के जवानों के कपड़े जंगल में छिपने के हिसाब से बनाए जाते हैं. ये झाड़ियों में जब छिपे होते हैं तब देखकर पहचान पाना मुश्किल होता है कि जवान आखिर कहां है?

ये भी पढ़ें : अमेरिका ने भी माना अमृत है Ganga Water, गंगाजल पीने वाले 90% लोग कोरोना से पूरी तरह सुरक्षित

सोशल मीडिया पर भारतीय जवानों की कई तस्वीरें वायरल हैं. इनमें छिपे जवानों को कोई भी पहली बार में नहीं ढूंढ पाता. इससे दुश्मनों पर अचानक हम ला करने में मदद मिलती है. दुश्मन जवानों को देख नहीं कर पाते और भारतीय जवान अपना काम कर देते हैं.