तुर्की के राष्ट्रपति की पत्नी से मिलने पर RSS का आरोप,कहा-देश विरोधी ताकतों से मिल रहे आमिर खान

0
428
Amir Khan
(Image Courtesy: Google)

नई दिल्ली। तुर्की के राष्ट्रपति की पत्नी से मुलाकात बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान बुरी तरह घिरते नजर आ रहे हैं। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) ने इस मुलाकात के बाद आमिर खान को निशाने पर लिया है। RSS के मुखपत्र पांचजन्य में आमिर खान को चीन की सत्ताधारी पार्टी का प्यारा भी बताया गया है। साथ ही कहा गया कि आमिर खान भारत विरोधी ताकतों से हिल-मिल रहे हैं।

पांचजन्य में प्रकाशित एक लेख में लिखा गया कि भारत में जब लोग किसी फिल्मी सितारे को बुलंदियों पर पहुंचाते हैं तो वह उसका मजहब नहीं देखते। उसकी फिल्मों पर खूब पैसा लुटाते हैं। लोग उसके मजहब के नहीं बल्कि उसकी अदाकारी के प्रशंसक होते हैं।

RSS का सवाल ‘पहले मजहब या फिर देश’

लेख में कहा गया, ‘मगर तब क्या हो जब वही इंसान देशवासियों को ठेंगा दिखाते हुए उनके प्यार के बदले ‘पहले मजहब फिर देश’ की जि;हादी सोच दिखाने लगे या दुश्मन देश के चंद पैसों पर कठपुतली सा चलने लगे, दुश्मन देश की मेहमाननवाजी पूरी बेशर्मी से कबूलने लगे? इसके लिए क्या देशवासी खुद को ठगा महसूस नहीं करेंगे? आजकल चीन और तुर्की के चहेते बने आमिर खान की इन्हीं सब बातों को लेकर उनके प्रशंसकों के साथ ही आम देशभक्तों में गुस्सा दिख रहा है।’

इन कलाकारों को बताया देशभक्त

संपादकीय के लेखक विशाल ठाकुर के इस लेख में कहा कि अक्षय कुमार, अजय देवगन, जॉन अब्राहम और कंगाना रनौत जैसे कुछ फिल्मी सितारे और फिल्मकार हैं जिनके लिए राष्ट्रवाद और देशभक्ति की फिल्में बनाना देश के प्रति अपनी निष्ठा जताने जैसा है।

इसमें कहा गया कि एक आमिर खान हैं जिन्हें दुश्मन देश चीन, पाकिस्तान और तुर्की के साध हिल-मिलने में कोई परेशानी नहीं। तुर्की इन दोनों देशों के साथ मिलकर भारत के खिलाफ जि;हा’दी मंसूबे पाले बैठा है और आमिर खान इन दिनों वहीं डेरा डाले बैठे हैं।

आमिर का चीन प्रेम

संपादकीय में कहा गया कि चीन के प्रति आमिर खान का प्रेम पहले से ही संदि;ग्ध’ता का दायरे में हैं। आजकल चीन में किसी खान की फिल्मों की सफलता के बरअक्स कई अन्य फिल्मी सितारे असफल क्यों साबित होते हैं। चीन में आमिर खान की फिल्में ना केवल शानदार कारोबार करती हैं बल्कि वो भारत में चीनी उत्पादों को धड़ल्ले से प्रचार करके करोड़ों कमाते हैं। आमिर खान की चीन सत्ताधारी पार्टी की प्यारे हैं। वो चीन के उत्पाद वीवो मोबाइल फोन के ब्रांड एम्बेसेडर हैं जो सुरक्षा के नियमों की खुलेआम अनदेखी करता है।