राहुल गांधी ने गिनाए BJP के 3 ‘झूठ’, कहा- जल्‍दी भ्रम टूटेगा और कीमत भारत को चुकानी पड़ेगी

New Delhi: कांग्रेस सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने सत्‍ताधारी भाजपा पर देश से ‘झूठ’ बोलने का आरोप लगाया है। रविवार को पूर्व कांग्रेस अध्‍यक्ष ने एक ट्वीट में कहा कि बीजेपी ने ‘झूठ को संस्‍थागत’ कर दिया है।

उन्‍होंने तीन बिंदु गिनाएं जिनपर उनके मुताबिक, केंद्र की भाजपा नीत सरकार ने झूठ बोला। इनमें कोरोना, जीडीपी आंकड़े और चीन का आक्रामक रुख शामिल है। राहुल (Rahul Gandhi) के मुताबिक, बीजेपी ने जो ‘भ्रम’ फैलाया है वजह ‘जल्‍द टूट जाएगा’ और ‘कीमत भारत को चुकानी पड़ेगी।’ राहुल ने वाशिंगटन पोस्‍ट की एक रिपोर्ट साझा करते हुए यह बात कही।

राहुल ने गिनाए बीजेपी के तीन ‘झूठ’

राहुल (Rahul Gandhi) ने जो रिपोर्ट शेयर की, उसमें भारत में कोरोना वायरस मौतों के आंकड़ों पर सवाल उठाए गए हैं। अंदेशा जताया गया है कि भारत ने मौतों की संख्‍या कम करके दिखाई।

राहुल ने रिपोर्ट का लिंक शेयर करते हुए कहा, “भाजपा झूठ को संस्थागत तौर पर फैला रही है। 1. Covid19 टेस्ट पर बाधाएं लगायीं और मृतकों की संख्या ग़लत बतायी। 2. GDP के लिए एक नई गणना पद्धति लागू की। 3. चीनी आक्रमण पर पर्दा डालने के लिए मीडिया को डराया। ये भ्रम जल्द ही टूट जाएगा और देश को इसकी भारी क़ीमत चुकानी होगी।”

‘सरकार की कायरता का नतीजा भारत झेलेगा’

कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष इन तीन मुद्दों को लेकर लगातार केंद्र सरकार पर हमलावर रहे हैं। एक दिन पहले, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने जब कहा कि वह चीन के साथ तनाव कब खत्‍म होगा, इसकी गारंटी नहीं ले सकते तो राहुल गांधी ने केंद्र सरकार को ‘चैंबर्लेन’ करार दिया।

उन्‍होंने लिखा था, “भारत सरकार की कायरतापूर्ण कार्रवाइयों का भारी खामियाजा भारत को भुगतना पड़ेगा।” राहुल ने हाल ही में एक वीडियो सीरीज भी शुरू की है जिसमें वह विभिन्‍न मुद्दों पर अपनी राय रखते हैं। पहला वीडियो उन्‍होंने चीन को लेकर बनाया।

वीडियो में बताया, चीन ने अभी क्‍यों किया हमला

अपने वीडियो में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमले करते हुए कहा कि पिछले छह साल में हम ‘मतलबपरस्‍त’ हो गए हैं। उन्‍होंने यह भी बताया कि चीन ने बॉर्डर पर आगे बढ़ने का फैसला क्‍यों किया। राहुल के मुताबिक, “आज हमारा राष्‍ट्र आर्थिक रूप से संकट में है। विदेश नीति भी ध्‍वस्‍त होने के दौरे में है, पड़ोसियों से रिश्‍ते खराब हो चुके हैं। यही वजह है कि चीन ने सीमा पर हमला करने का फैसला किया।”