केजरीवाल, राहुल… नेता मांगने लगे बूस्‍टर डोज पर सरकार का मूड नहीं, जानें एक्‍सपर्ट्स की राय

नई दिल्ली: Booster Dose Of Covid-19 Vaccine For Omicron: कोविड-19 के ओमीक्रोन वेरिएंट का खतरा बढ़ता जा रहा है। देश के 15 राज्‍यों तक पहुंच चुका ओमीक्रोन वैक्‍सीन इम्‍युनिटी को भी धता बता देता है।

अब तक की रिसर्च बताती है कि कोविड संक्रमण से रिकवरी के बाद होने वाली इम्‍युनिटी भी ओमीक्रोन से बचा नहीं पाती। ऐसे में पर्याप्‍त इम्‍युनिटी के लिए, दुनिया के कई देशों में वैक्‍सीन की बूस्‍टर डोज (Booster Dose Of Covid-19 Vaccine For Omicron) लगाई जा रही हैं। भारत में विशेषज्ञों ने भी इसकी जरूरत बताई है।

राजनेता केंद्र सरकार से पूछ रहे हैं कि बूस्‍टर डोज कब से लगेगी? मगर सरकार का कहना है कि उसका जोर पहले योग्‍य वयस्‍क आबादी को दोनों डोज लगाने पर है। दिग्‍गज एक्‍सपर्ट्स कह रहे हैं कि बूस्‍टर पर सरकार को तत्‍काल फैसला करने की जरूरत है, अन्‍यथा परेशानी बड़ी हो सकती है।

नेताओं ने की बूस्‍टर्स की डिमांड

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को बूस्‍टर डोज के संबंध में केंद्र सरकार से सवाल किया। उन्होंने टीकाकरण के आंकड़ों का एक चार्ट साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘बहुतायत आबादी का अब तक टीकाकरण नहीं हुआ है। सरकार बूस्टर खुराक देना कब शुरू करेगी?’

राहुल ने जो चार्ट साझा किया, उसमें कहा गया है कि टीकाकरण की वर्तमान रफ्तार से 31 दिसंबर, 2021 तक देश की 42 प्रतिशत आबादी का ही टीकाकरण हो सकेगा। वहीं, दिल्‍ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी सोमवार को केंद्र सरकार से ‘निवेदन’ किया था कि ‘जिन्होंने दोनो डोज ले ली हैं, उनके लिए बूस्टर डोज की अनुमति दी जाए।’

कोविशील्‍ड से इम्‍युनिटी बनाए रखने के लिए बूस्‍टर जरूरी : स्‍टडी

द लैंसेट ने ताजा रिसर्च में कहा है क‍ि एस्‍ट्रोजेनेका कोविड वैक्‍सीन (कोविशील्‍ड) से मिली सुरक्षा दूसरी डोज के तीन महीने के बाद घटने लगती है। रिसर्चर्स ने करोड़ों लोगों के डेटा को एनालाइज करने के बाद यह तथ्‍य सामने रखा है।

यह रिसर्च ओमीक्रोन वेरिएंट के खिलाफ नहीं हुई क्‍योंकि उस वक्‍त वह वेरिएंट था ही नहीं। रिसर्चर्स ने कहा कि जिन लोगों को एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन लगी है, उन्‍हें बूस्‍टर डोज देने पर विचार होना चाहिए।

केंद्र सरकार का रुख क्‍या रहा है?

सरकार ने अब तक यही कहा है कि वैज्ञानिक समुदाय इस संबंध में सभी पहलुओं पर विचार कर रहा है। फिलहाल अधिकतम आबादी का प्राथमिक टीकाकरण करना सबसे महत्वपूर्ण लक्ष्य है।

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वीके पॉल ने कहा है, ‘टीका संसाधनों को लेकर इस समय की स्थिति कुल मिलाकर अच्छी है। वैज्ञानिक समुदाय लगातार इन पहलुओं पर विचार कर रहा है। जब कोई संसाधन की कमी नहीं है तो महामारी विज्ञान और वैज्ञानिक परामर्श के आधार पर यह (टीके की बूस्टर खुराक के बारे में) तय होगा।’

‘वैक्‍सीन लगे 6 महीने हो गए तो जरूरी है बूस्‍टर’

देश की टॉप वैक्‍सीन एक्‍सपर्ट डॉ गगनदीप कांग ने नरेंद्र मोदी सरकार से mRNA वैक्‍सीन भारत लाने की गुहार लगाई है। उनका कहना है कि डेटा बताता है कि वे बेस्‍ट बूस्‍टर शॉट साबित हो सकती हैं।

वेल्‍लोर के क्रिश्‍चन मेडिकल कॉलेज में माइक्रोबायोलॉजी की प्रफेसर, डॉ कांग ने कहा कि बूस्‍टर शॉट्स की जरूरत सबको नहीं, केवल खतरे वाली आबादी को है। उन्‍होंने कहा, ’60 साल से ज्‍यादा उम्र वालों या ऐसे लोग जिन्‍हें 6 महीने पहले वैक्‍सीन दी गई हो, उन्‍हें बूस्‍टर्स देने की बहुत जरूरत है।’

भारत में SARS-CoV-2 को लेकर बने कंसोर्टियम INSACOG के पूर्व प्रमुख डॉ शाहिद जमील की राय भी डॉ कांग से जुदा नहीं है। उन्‍होंने एक लेख में कहा कि दुनियाभर में ओमीक्रोन के मामले डेढ़ से तीन दिन में डबल हो रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि स्‍टडीज बताती हैं कि बूस्‍टर्स देने का काफी फायदा होगा। उन्‍होंने नीति-नियंताओं से बूस्‍टर डोज पर जल्‍द फैसला लेने को कहा है।

बूस्‍टर में पीएम मोदी देंगे दखल?

ओमीक्रोन वेरिएंट के खतरे को देखते हुए बैठकों का सिलसिला शुरू हो गया है। केंद्र सरकार ने राज्‍यों से सर्विलांस बढ़ाने और जरूरत पड़ने पर पाबंदियां बढ़ाने की डिमांड की है।

सरकार बता रही है कि ओमीक्रोन, डेल्टा से कहीं ज्‍यादा संक्रामक है। इस बीच, गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ओमीक्रोन को लेकर अहम बैठक करेंगे। उन्‍हें टॉप ऑफिशियल्‍स वैक्‍सीनेशन और ओमीक्रोन वेरिएंट की ताजा स्थिति को लेकर ब्रीफ करेंगे। इसी बैठक में बूस्‍टर डोज पर कोई ठोस कदम उठाया जा सकता है।