LAC पर जारी तनाव के बीच लद्दाख के आसमान में गरजा Rafale, चीन को दिखाई ताकत

0
322
LAC पर जारी तनाव के बीच लद्दाख के आसमान में गरजा Rafale, चीन को दिखाई ताकत
(Image Courtesy: Google)

नई दिल्ली. भारत-चीन (Indo-China Standoff) के बीच लद्दाख सीमा (LAC) पर तनाव की स्थिति पहले जैसी बनी हुई है. इस बीच भारतीय वायुसेना की राफेल (Rafale Jets) विमानों ने लद्दाख के आसमान में उड़ान भरना शुरू कर दिया है. बता दें कि 5 महीने से चल रही खींचतान के बाद आज एक बार फिर कॉर्प्स कमांडर लेवल की बात हो रही है.

रविवार देर शाम अंबाला एयरबेस से राफेल विमानों (Rafale Jets) ने लद्दाख के लिए उड़ान भरी और हालात का जायजा लिया.

Rafale Jets ने भरी उड़ान

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, सोमवार को भी राफेल विमान (Rafale Jets) लद्दाख और लेह के आसमान में उड़ान भरते देखे गए. LAC पर जारी तनाव के बीच भारतीय सेना अलर्ट पर है, साथ ही वायुसेना भी लगातार चीन पर नजरें बनाए हुए हैं. ऐसे में वायुसेना के मिग-29, तेजस पहले से ही चीनी सीमा के पास उड़ान भरते हुए दिखे हैं.

हालांकि, इस बार वायुसेना ने राफेल विमान (Rafale Jets) को भी मैदान में उतार दिया है, जो चीन के लिए सख्त चेतावनी है. आसान शब्दों में कहें तो औपचारिक रूप से वायुसेना में शामिल होने के 10 दिन के भीतर ही राफेल विमान सीमा पर दुश्मन को चेताने लगा है. राफेल विमान 10 सितंबर को वायुसेना में शामिल हुआ था.

पहले से तैनात हैं सुखोई जैसे विमान

वायुसेना की ओर से लद्दाख सीमा (LAC) पर सुखोई 30MKI, जगुआर, मिराज 2000, मिग-29 और अब राफेल विमान को तैनात किया गया है. जो लगातार उड़ान भरकर चीन पर नजर बनाए हुए हैं. वायुसेना यहां दिन-रात उड़ान भरकर चीन पर नजर रखती आई है.

ये भी पढ़ें : योगी सरकार का Mukhtar Ansari परिवार पर शिकंजा, पत्नी और 2 सालों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी

इन विमानों के अलावा अपाचे हेलिकॉप्टर और चिनूक हेलिकॉप्टर भी सामान पहुंचाने और अन्य सैन्य मदद पहुंचाने का काम कर रहे हैं. आपको बता दें कि चीन की ओर से सीमा (LAC) पर हर रोज नए हथकंडे अपनाए जा रहे हैं, ऐसे में भारत पूरी तरह से सतर्क है.

राजनाथ ने कहा था-भारत नहीं बदलेगा स्थिति

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बीते दिन संसद में बयान दिया था कि भारत बातचीत से मसले को सुलझाना चाहता है, लेकिन भारतीय सेना किसी भी परिस्थिति के लिए तैयार है और LAC में कोई भी बदलाव नहीं होने देगी. बता दें कि पिछले बीस दिनों में भारत ने लद्दाख सीमा की करीब आधा दर्जन से अधिक पहाड़ियों पर कब्जा कर लिया है.