Pranab Mukharjee की किताब में दावा: आज नेपाल होता भारत का हिस्सा, लेकिन नेहरू ने ठुकराया था प्रस्ताव

0
810
Pranab Mukharjee की किताब में दावा: आज नेपाल होता भारत का हिस्सा, लेकिन नेहरू ने ठुकराया था प्रस्ताव
Pranab Mukharjee की किताब में दावा: आज नेपाल होता भारत का हिस्सा, लेकिन नेहरू ने ठुकराया था प्रस्ताव (Image Courtesy: Google)

Pranab Mukharjee Book. भारत का पड़ोसी और शांत रहने वाला देश नेपाल आज भारत के एक राज्य के तौर पर हिस्सा होता, लेकिन देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू (Jawahar Lal Nehru) ने नेपाल के राजा की मांग को ठुकरा दिया था. यह दावा किसी और ने नहीं, बल्कि देश के पूर्व दिवंगत राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukharjee) ने अपनी किताब The Presidential Years में किया है.

ये भी पढ़े : असल जिंदगी में काफी स्टाइलिश हैं तारक मेहता की अंजलि भाभी से लेकर बबीता जी तक सभी महिला कलाकार

Pranab Mukharjee की किताब में दावा

दरअसल, पिछले शनिवार को इस किताब में किए गए दावे को ट्वीट करते हुए वरिष्ठ पत्रकार अनंत विजय ने लिखा है कि नेपाल के राजा त्रिभुवन बीर बिक्रम सिंह ने नेहरू को प्रस्ताव दिया था कि नेपाल को भारत में शामिल कर लिया जाए. हालांकि इस प्रस्ताव को नेहरू (Jawahar Lal Nehru) ने यह कहकर ठुकरा दिया कि, नेपाल एक राष्ट्र के रूप में ही ठीक है.

अनंत विजय ने अपने ट्वीट में लिखा है कि नेपाल के राजा त्रिभुवन बीर बिक्रम सिंह ने नेहरू को प्रस्ताव दिया था कि नेपाल को भारत में शामिल कर लिया जाए. उन्होंने आगे लिखा है कि जवाहर लाल नेहरू (Jawahar Lal Nehru) ने ये कहकर प्रस्ताव को ठुकरा दिया था कि नेपाल एक स्वतंत्र राष्ट्र है और उसको स्वतंत्र राष्ट्र ही बने रहना चाहिए- प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukharjee). इस ट्वीट के जवाब में लोग अपनी प्रतिक्रियाएं भी दे रहे हैं.

एक यूजर ने लिखा कि नेहरू (Jawahar Lal Nehru) की गलत नीतिओ की लंबी सूची है जिसके वजह से सक्षम हिंदुस्तान कमजोर होता गया. अच्छा है आज के वक्त देश की बाग डोर मोदीजी और बीजेपी के हाथों में है. अगर कांग्रेस होती तो केदारनाथ त्रासदी की तरह लोगो की लाशों पे अपना फायदा करने में लिप्त होती.