कृषि कानून के विरोध में पंजाब के पूर्व सीएम Prakash Singh Badal ने लौटाया पद्म विभूषण

नई दिल्ली. कृषि कानूनों के खिलाफ देश में किसानों का आंदोलन बढ़ता जा रहा है. पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री और अकाली दल के वरिष्ठ नेता प्रकाश सिंह बादल (Prakash Singh Badal) ने कृषि कानूनों के विरोध में अपना पद्म विभूषण सम्मान लौटा दिया है.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को करीब तीन पन्ने की चिट्ठी लिखते हुए प्रकाश सिंह बादल (Prakash Singh Badal) ने कृषि कानूनों का विरोध किया है. उन्होंने सरकार द्वारा किसानों पर एक्शन की निंदा की और इसी के साथ अपना सम्मान वापस दिया.

क्या बोले प्रकाश सिंह बादल

अपना पद्म विभूषण लौटाते हुए पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल (Prakash Singh Badal) ने लिखा, ‘मैं इतना गरीब हूं कि किसानों के लिए कु र्बा न करने के लिए मेरे पास कुछ और नहीं है, मैं जो भी हूं किसानों की वजह से हूं. ऐसे में अगर किसानों को अपमान हो रहा है, तो किसी तरह का सम्मान रखने का कोई फायदा नहीं है’

प्रकाश सिंह बादल (Prakash Singh Badal) ने लिखा कि किसानों के साथ जिस तरह का धोखा किया गया है, उससे उन्हें काफी दुख पहुंचा है. किसानों के आंदोलन को जिस तरह से गलत नजरिये से पेश किया जा रहा है, वो दर्दनाक है.

हरसिमरत कौर बादल भी दे चुकी हैं इस्तीफा

बता दें कि इससे पहले भी प्रकाश सिंह बादल (Prakash Singh Badal) परिवार की ओर से कृषि कानूनों का बड़ा विरोध किया गया था. हरसिमरत कौर बादल ने केंद्रीय मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था और केंद्र के नए कानूनों को किसानों के साथ बड़ा धोखा बताया था. सिर्फ इतना ही नहीं प्रकाश सिंह बादल (Prakash Singh Badal) के बेटे सुखबीर बादल ने अकाली दल के NDA से अलग होने का ऐलान करते हुए पंजाब के चुनावों में अकेला लड़ने की बात कही थी.

ये भी पढ़ें: पहले फ्री कोरोना वैक्सीन का वादा, फिर इनकार, आखिर क्या चाहते हैं पीएम मोदी : राहुल गांधी

गौरतलब है कि अकाली दल पंजाब में लगातार कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रही है. हालांकि, कैप्टन अमरिंदर सिंह (Capt. Amrinder Singh) भी अकाली दल पर हमलावर हैं और अकाली दल को घेरते आए हैं. अमरिंदर ने आरोप लगाया था कि जब अकाली दल केंद्र सरकार में शामिल थी, तब ये कानून तैयार हुए थे ऐसे में तब विरोध क्यों नहीं किया गया था.