Pok में चीन और पाक के खिलाफ फूटा लोगों का गुस्सा, मुजफ्फराबाद में सड़कों पर उतरे लोग

0
177
Pakistan Sindh Viral Video
पाकिस्तान के सिंध प्रांत में प्रदर्शन करती हिंदू महिलाएं (साभार- ट्विटर)

नई दिल्ली. कोरोना और भारत के साथ सीमा विवाद के चलते चीन के खिलाफ दुनिया के कई देशों में आवाज बुलंद होती जा रही है. अब चीन के करीबी दोस्त पाकिस्तान ( PoK) में भी विरोध की आवाज तेज हो गई है. दरअसल, पाक अधिकृत कश्मीर ( PoK) में सैकड़ों लोग सोमवार को चीन के खिलाफ सड़कों पर उतर आए.

इस दौरान लोगों ने पाकिस्तानी सरकार पर चीन के साथ मिलीभगत करने का आरोप लगाया.

डैम प्रोजेक्ट के खिलाफ सड़क पर उतरे लोग

दरअसल, पाक अधिकृत कश्मीर PoK के मुजफ्फराबाद में लोग चीन और पाकिस्तान के द्वारा मिलकर बनाए जा रहे एक डैम प्रोजेक्ट का विरोध कर रहे हैं. मुजफ्फराबाद में झेलम और नीलम नदी के पास पाकिस्तानी सरकार चीन की मदद से एक डैम बना रही है. लेकिन मुजफ्फराबाद के निवासियों का कहना है कि इसके बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है, ना ही उनसे कुछ पूछा गया.

PoK के निवासियों ने आरोप लगाया कि पाकिस्तानी सरकार ने सिर्फ पैसों के लिए चीन के साथ ये डैम बनाने का सौदा किया है, इसमें PoK के लोगों को कोई फायदा नहीं है और ना ही उनकी सलाह ली गई है.

पहले भी हुए हैं चीन के खिलाफ प्रदर्शन

आपको बता दें कि ये पहली बार नहीं है कि PoK में पाकिस्तान और चीन के खिलाफ आवाज़ बुलंद हुई है. इससे पहले भी PoK के लोग चीन के द्वारा बनाए जा रहे वन बेल्ट वन रोड प्रोजेक्ट का विरोध करते आए हैं.

ये भी पढ़ें : कैप्टन विक्रम बत्रा: जिनकी वीरता के साथ अमर है प्रेम कहानी… 7 जुलाई को दिया था सर्वोच्च बलिदान

दरअसल, कोरोना संकट के बाद जिस तरह से चीन दुनिया में अलग-थलग पड़ा है और उसके बाद भारत से साथ संघर्ष ने कई बड़े देशों को उसके खिलाफ कर दिया है. इससे पाकिस्तान में खलबली मची है.

चीन के अलग-थलग होने से पड़ेगा पाक पर असर

पाकिस्तान के विदेश विभाग ने प्रधानमंत्री इमरान खान को एक रिपोर्ट सौंपी है, जिसमें पाकिस्तान की चीन नीति पर विचार करने को कहा है. ऐसा इसलिए क्योंकि मौजूदा वक्त में एक पाकिस्तान ही है जो हर दम चीन के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलता है. ऐसे में अगर दुनिया चीन को अलग-थलग कर देगी, तो उसका पाकिस्तान पर बड़ा असर पड़ेगा.

पाकिस्तान ने काफी लंबे वक्त से चीन से कर्ज लिया हुआ है और चीन अब पाकिस्तान में हर जगह पहुंच चुका है. कराची के ग्वादर पोर्ट पर अब पूरी तरह से चीन का ही कब्जा है. यही कारण है कि पाकिस्तान में लगातार चीन के खिलाफ आवाज बुलंद होती आई है.