PM Modi Security Breach मामले की जांच हुई शुरू, पंजाब पहुंची केंद्र की जांच टीम

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक (PM Modi Security Breach) के मामले में जांच के लिए गृह मंत्रालय की टीम शुक्रवार को दिल्ली से फिरोजपुर पहुंची। इतना ही नहीं टीम उस स्थान पर भी गई, जहां पीएम मोदी का काफिला 15-20 मिनट तक रुका था।

इसी जगह पर टीम ने फिरोजपुर SSP और DIG को पूछताछ के लिए बुलाया। इतना ही नहीं गृह मंत्रालय की टीम ने पंजाब के डीजीपी सिद्धार्थ चट्टोपाध्याय को भी तलब किया है। उनसे BSF कैंप में पूछताछ की जाएगी।

गृह मंत्रालय की कमेटी में कैबिनेट सेक्रेटिएट में सुरक्षा सचिव सुधीर कुमार को प्रमुख बनाया गया है। कमेटी में आईबी के जॉइंट डायरेक्टर बलबीर सिंह और एसपीजी के आईजी एस सुरेश शामिल हैं।

पीएम की सुरक्षा में हुई थी चूक

पीएम मोदी (PM Modi Security Breach) बुधवार को पंजाब दौरे पर गए थे। यहां सड़क के रास्ते हुसैनीवाला जाते वक्त कुछ प्रदर्शनकारियों ने रास्ता रोक लिया था। इसके बाद पीएम मोदी का काफिला यहां 15-20 मिनट रुका रहा। इसे पीएम मोदी की सुरक्षा में बड़ी चूक बताई जा रही है। इसे लेकर गृह मंत्रालय ने पंजाब सरकार से रिपोर्ट मांगी। उधर, पंजाब सरकार ने इस मामले की जांच के लिए उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया है।

सुप्रीम कोर्ट ने साझा जांच की दी सलाह

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक के मामले में शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने राज्य और केंद्र से इस मामले की जांच के लिए संयुक्त कमेटी बनाने की सलाह दी।

दरअसल, केंद्र और पंजाब सरकार ने सुनवाई के दौरान एक दूसरे की जांच कमेटी पर सवाल उठाए। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि सभी रिकॉर्ड पंजाब हरियाणा हाई कोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल के पास सुरक्षित रखें जाएंगे। जांच में NIA भी शामिल होगी। अब मामले की अगली सुनवाई सोमवार को होगी।

पंजाब सरकार ने केंद्र को भेजी रिपोर्ट

पंजाब सरकार ने गुरुवार को देर रात अपना जवाब केंद्रीय गृह मंत्रालय को भेज दिया है। बताया जा रहा है कि पंजाब के मुख्य सचिव ने पीएम मोदी की सुरक्षा में चूक के कारणों का तथ्यों के साथ जवाब भेजा है। फिरोजपुर में पीएम सुरक्षा में जुटे सीनियर अफसरों से बात कर यह रिपोर्ट तैयार की गई है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पूरे पंजाब में पीएम के दौरे का विरोध हो रहा था। विरोध और प्रदर्शनों को ध्यान में रखते हुए अतिरिक्त सुरक्षाबलों को तैयार किया गया था। कहा गया है कि प्रदर्शन अचानक हुआ था।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.