लद्दाख में PM मोदी के मिशन से घबराया चीन, प्रधानमंत्री ने दिया लेह एयरपोर्ट के आधुनिकीकरण का दिया निर्देश

नई दिल्ली. भारत चीन सीमा पर जारी विवाद के बीच PM मोदी के मिशन से चीन घबरा गया है. मोदी सरकार ने जिस तरह लद्दाख के विकास का बीड़ा उठाया है, उससे चीन परेशान है. लद्दाख में एलएसी के नजदीक जब तक बुनियादी ढांचा विकसित नहीं था तो चीन को एलएसी पर मनमानी करने में आसानी होती थी. लेकिन अब बात अलग है.

भारत सरकार लद्दाख में सड़क और पुल से लेकर एयरपोर्ट तक विकसित कर रही है. जिससे चीन की हर चाल नाकाम हो रही है.

लद्दाख के विकास से चीन परेशान

चीन जानता है और समझ चुका है कि लद्दाख का विकास पीएम मोदी का सपना है और अब इसी विकास से चीन परेशान है. चीन की परेशानी का कारण लद्दाख में सिर्फ बॉर्डर एरिया की सड़कें और पुल नहीं है बल्कि लद्दाख का संपूर्ण विकास भी चीन के गले नहीं उतर रहा है. मोदी सरकार ने लद्दाख के विकास का चौतरफा प्लान तैयार किया है.

बनाई जा रहीं नई सड़कें

लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाना भी एक तरह से पीएम मोदी की योजना का हिस्सा था. केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद से ही लद्दाख में विकास कार्य तेज हो गए हैं. यहां नई सड़कें बनाई जा रही हैं. टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाएं चलाई जा रही हैं. पीएम मोदी के इसी विकास प्लान का एक बड़ा हिस्सा है.

इसी के तहत लेह एयरपोर्ट का आधुनिकीकरण होगा. पूरे देश को लद्दाख से जोड़ना वाला ये इकलौता एयरपोर्ट है- जिसका नाम- कुशक बाकुला रिम्पौछे है. अब यहां पर नई टर्मिनल बिल्डिंग बनाई जा रही है जो कि आधुनिकता के साथ साथ लद्दाख की कला एवं संस्कृति पर आधारित होगी. लद्दाख अपनी खुबसूरती की वजह से दुनियाभर के पर्यटकों को अपनी तरफ खींचता है और साल में कई हजार टूरिस्ट यहां आते हैं. इसी वजह से लेह एयरपोर्ट को बेहद आधुनिक तरीके से बनाने का प्लान किया गया है.

लेह के नए टर्मिनल में ये खासियत होगी:

नया टर्मिनल 18 हजार 985 वर्ग मीटर का होगा. एक साथ 800 यात्रियों को संभालने के इंतजाम होंगे. एयरपोर्ट की नई बिल्डिंग में 18 चेक इन काउंटर,8 सेल्फ चेक इन काउंटर, के साथ-साथ 15 लिफ्ट और 11 स्वचालित सीढ़ियां बनाई जाएंगी. यही नहीं, जिस बौद्ध धर्म की कला एवं संस्कृति को तिब्बत समेत पूरी दुनिया में चीन मिटाने में जुटा हुआ है, उसी कला एवं संस्कृति को भारत के इस लेह एयरपोर्ट की नई टर्मिनल बिल्डिंग में विशेष पहचान मिलेगी.

ये भी पढ़ें : कोरोना की जंग में आगे आया टाटा ग्रुप, BMC को दिए 20 एंबुलेंस, 100 वेंटिलेटर्स और 10 करोड़ रुपये

नए टर्मिनल को पारंपरिक स्तूप और हिमालय की आकृति का बनाया जाएगा. बिल्डिंग के पिलर्स में प्रेयर व्हील लगाए जाएंगे. बौद्ध धर्म की कला एवं संस्कृति के प्रतीत चिह्नों को एयरपोर्ट पर विशेष स्थान दिया जाएगा.

टर्मिनल की छतों को लद्दाख के टेरेन व लैंडस्केप पहाड़ों जैसे स्वरूप दिया जाएगा. लद्दाख के प्रार्थना वाले झंडे भी लगाए जाएंगे. रिटेल, चेक इन और लाउंज एरिया में मंडाला लगाया जाएगा, जिसे बौद्ध धर्म के मुताबिक़ ब्रम्हाण्ड का प्रतीक माना जाता है. लेह एयरपोर्ट का ये टर्मिनल 480 करोड़ रुपए से नए टर्मिनल बनाया जाएगा, जो अगले साल तक बनकर तैयार हो जाएगा.

लेह के विकास से चीन परेशान

लेह एयरपोर्ट के विकास से काफी परेशान है. दरअसल, इससे लद्दाख में पर्यटक बढ़ेंगे और लद्दाख के लोग आत्मनिर्भर बनेंगे. इसके साथ ही बौद्ध धर्म का प्रचार-प्रसार बढ़ेगा, जो चीन बिल्कुल भी नहीं चाहता. केंद्र सरकार ने धारा 370 हटाने और लद्दाख को केन्द्र शासित प्रदेश बनाने के साथ ही यहां के स्थानीय विकास पर खासा जोर दिया, क्योंकि ये इलाका दुश्मनों से सटा हुआ है.

लद्दाख में जब विदेशी पर्यटक घूमने आता है तो सबसे ज्यादा मिर्ची चीन को लगती है. क्योंकि भारत की नई नीतियों से चीन के कब्जे वाली कोशिशें नाकाम हो रही हैं और पूरी दुनिया को ये पता चल रहा है कि मौजूदा लद्धाख ही नहीं बल्कि अक्साई चिन भी भारत का ही हिस्सा है. लद्दाख के मुख्य रोज़गार के साधनों में पर्यटन सबसे बड़ी आमदनी का जरिया है. पर्यटन के सहारे ही यहां के लोगों की आजीविका चलती है. इसीलिए भारत लद्दाख को पर्यटकों के लिए एक शानदार लोकेशन के तौर पर विकसित कर रहा है, जो कि रणनीतिक और सामरिक तौर पर बेहद अहम है.