India Ideas Summit में बोले PM मोदी- कोरोना काल में भी आ चुका है 20 अरब डॉलर FDI

New Delhi: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने इंडिया आइडिया समिट (India Ideas Summit) को संबोधित किया, जिसे US-India Business Council (USIBC) की तरफ से आयोजित किया गया था। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि USIBC की मदद से भारत और अमेरिका के बीच व्यापारिक रिश्ते मजबूत हुए हैं।

अपने संबोधन में पीएम (PM Modi in India Ideas Summit) ने आत्मनिर्भर भारत अभियान पर बल देते हुए कहा कि विश्व को समृद्ध बनाने में भारत अपनी योगदान दे रहा है। इसके लिए उन्होंने ग्लोबल पार्टनरशिप की जरूरत पर बल दिया।

फॉरन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट (FDI) के मामले में हर साल भारत काफी तेजी से आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि वित्त वर्ष 2019-20 में भारत में कुल 74 अरब डॉलर एफडीआई आया। पिछले साल की तुलना में यह 20 फीसदी ज्यादा है। चालू वित्त वर्ष (2020-21) में अप्रैल-जुलाई के बीच भारत में अब तक 20 अरब डॉलर का FDI आ चुका है।

मोदी ने दुनियाभर के निवेशकों को फाइनैंस और इंश्योरेंस सेक्टर में निवेश करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि भारत ने इंश्योरेंस सेक्टर में एफडीआई का दायरा 49 फीसदी तक बढ़ा दिया है। इंश्योरेंस इंटरमीडियरीज के रास्ते 100 फीसदी एफडीआई को मंजूरी है।

निवेशकों ने उन्होने डिफेंस और स्पेस सेक्टर में निवेश की अपील की। डिफेंस सेक्टर में एफडीआई को 74 फीसदी तक बढ़ाया जा रहा है। डिफेंस इक्विपमेंट्स प्रॉडक्शन पर हम फोकस कर रहे हैं, जिसके लिए दो डिफेंस कॉरिडोर तैयार किया गया है।

पीएम ने सिविल एविएशन में निवेश की अपील की। उन्होंने कहा कि अगले आठ सालों में एयर पैसेंजर्स की संख्या दोगुनी हो जाएगी। ऐसे में एयरलाइन बिजनस काफी तेजी से विकास करेगा। भारत की बड़ी प्राइवेट एयरलाइन अभी से तैयारी में जुट गई हैं। हजारों एयरक्रॉफ्ट को बेड़े में शामिल करने की योजना है।

निवेशकों से उन्होंने हेल्थकेयर सेक्टर में निवेश की अपील की। पीएम ने कहा कि यह सेक्टर 22 फीसदी की रफ्तार से विकास कर रहा है। भारतीय कंपनियां मेडिकल टेक्नॉलजी, टेलीमेडिसिन और डायग्नॉस्टिक के क्षेत्र में तेजी से विकास कर रही हैं।

पीएम ने अमेरिकी एनर्जी कंपनियों से भारत में एनर्जी सेक्टर में निवेश की अपील की। इसके अलावा उन्होंने क्लीन एनर्जी में भी कंपनियों को निवेश करने की बात की। इस तरह उन्होंने अमेरिका समेत दुनियाभर के निवेशकों को भारत में कहां-कहां निवेश की संभावनाएं हैं, उसके बारे में जानकारी दी।