अंडरवर्ल्ड डॉन पर 12 घंटे में पाकिस्तान ने मारी पलटी, कहा-हमारी सरजमीं पर नहीं है दाऊद इब्राहिम

0
1010
Dawood
(Image Courtesy: Google)

इस्लामाबाद। अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के कराची में होने के कबूलनामे पर पाकिस्तान मात्र 12 घंटों में पलट गया है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने आधिकारिक तौर पर दाऊद की मौजूदगी को नकार दिया है। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि यह दावा पूरी तरह से निराधार और भ्रामक है कि पाकिस्तान ने अपनी जमीन पर कुछ सूचीबद्ध व्यक्तियों (दाऊद इब्राहिम) की उपस्थिति को स्वीकार किया है।

बता दें कि 1993 में मुंबई सीरियल ध;मा;कों का जिम्मेदार बाद दाऊद पाकिस्तान भाग गया था। इस्लामाबाद लगातार इस बात से इनकार करता रहा है कि उसने दाऊद को शरण दी है। भारत कई बार पाकिस्तान से दाऊद इब्राहिम को सौंपने के लिए कहा चुका है।

आ;तं’कवादी संगठनों पर कार्रवाई का दिखावा

शनिवार को पाकिस्तान ने दाऊद इब्राहिम समेत 88 प्रतिबंधित आ;तं’कवादी संगठनों और उनके आकाओं पर कार्रवाई करने का दिखावा किया था। अंतरराष्ट्रीय आ;तं’कवाद वित्तपोषण पर निगरानी रखने वाली संस्था फाइनेंशियल एक्शन टॉस्क फोर्स (एफएटीएफ) की ‘ग्रे लिस्ट’ से बाहर आने की कोशिशों के तहत पाकिस्तान ने ये लिस्ट जारी की। इस लिस्ट में हाफिज सईद, मसूद अजहर और दाऊद इब्राहीम का नाम भी शामिल था।

एफएटीएफ ग्रे लिस्ट में पाकिस्तान

पेरिस स्थित एफएटीएफ ने जून, 2018 में पाकिस्तान को ‘ग्रे लिस्ट’ में डाला था और इस्लामाबाद को 2019 के अंत तक कार्ययोजना लागू करने को कहा था, लेकिन कोरोना वायरस महामारी के कारण इस समय सीमा बढ़ा दिया गया था। सरकार ने 18 अगस्त को दो अधिसूचनाएं जारी करते हुए 26/11 मुंबई ह;म’ले के साजिशकर्ता और जमात-उद-दावा के सरगना सईद, जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख अजहर और अंडरवर्ल्ड डॉ;न इब्राहीम पर प्रतिबंधों की घोषणा की थी।

इन आ;तं’कियों पर कार्रवाई

खबरों के अनुसार, आ;तं’की संगठनों और उनके आकाओं की सभी संपत्तियों को जब्त करने और बैंक खातों को सील करने के आदेश दिएगए हैं। जिन आ;तं’कियों पर कार्रवाई की बात कही गई, उनमें आ;तं’की हाफिज सईद, अजहर मसूद, मुल्ला फजलुल्ला, जकीउर रहमान लखवी, मुहम्मद यह्या मुजाहिद, अब्दुल हकीम मुराद, नूर वली महसूद, उजबेकिस्तान लिबरेशन मूवमेंट के फजल रहीम शाह, तालिबान नेता जलालुद्दीन हक्कानी, खलील अहमद हक्कानी, यह्या हक्कानी और दाऊद इब्राहीम और उसके सहयोगी शामिल थे।