Oxford corona vaccine: टूटी कोरोना वैक्सीन की उम्मीद, साइड इफेक्ट की वजह से अंतिम चरण में रुका ट्रायल

Oxford corona vaccine: ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका द्वारा विकसित की जा रही कोरोना वैक्सीन (Oxford corona vaccine) की उम्मीदें आखिरी चरण में टूट गई हैं। रेस में सबसे आगे चल रही इस वैक्सीन के ट्रायल को स्थगित कर दिया गया है।

‘स्टैट न्यूज’ की रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटेन में वैक्सीन लेने वाले एक वॉलंटियर की सेहत पर गंभीर रिएक्शन (साइड इफेक्ट) देखने के बाद अमेरिका में दर्जनों ट्रायल्स पर रोक लगाई गई है.

रिव्यू के लिए रोका गया Oxford corona vaccine का ट्रायल

एस्ट्राजेनेका के एक प्रवक्ता ने बताया कि ‘स्टैंडर्ड रिव्यू प्रोसेस’ ने सेफ्टी डेटा रिव्यू की अनुमति के लिए वैक्सीनेशन को रोका है. इस वैक्सीन कैंडिडेट को अमेरिका और ब्रिटेन में कई जगहों पर टेस्ट किया जा रहा था. रिपोर्ट के मुताबिक, सुरक्षा का ये मुद्दा तुरंत सामने नहीं आया था. हालांकि वैक्सीन से तबियत बिगड़ने के बाद वॉलंटियर के रिकवर होने की उम्मीद है.

खबर के मुताबिक, इस वैक्सीन ट्रायल को रोकने का असर एस्ट्राजेनेका के बाकी वैक्सीन ट्रायल्स पर भी पड़ा है. वैक्सीन निर्माताओं द्वारा किए जाए रहे अन्य क्लीनिकल ट्रायल्स भी इससे प्रभावित हुए हैं.

कंपनी ने बताया रूटीन एक्शन

एस्ट्रेजेनेका के प्रवक्ता ने कहा, ‘ये एक रूटीन एक्शन है जो किसी भी ट्रायल में अस्पष्ट बीमारी के होने पर उसकी जांच करते हुए अक्सर होता है. हम ये सुनिश्चित करते हैं कि ट्रायल पूरी ईमानदारी से किया जाए.’ प्रवक्ता ने यह भी बताया कि समीक्षा में तेजी लाने और ट्रायल की टाइमलाइन पर संभावित प्रभाव को कम करने के लिए काम किया जा रहा है.

Oxford corona vaccine की विकास प्रक्रिया से जुड़े एक शख्स के मुताबिक, शोधकर्ताओं ने कहा था कि सावधानी को प्रमुखता से ध्यान में रखते हुए ट्रायल को होल्ड पर रखा गया है. एक अन्य व्यक्ति ने नाम ना बताने की शर्त पर कहा कि इस घटना का एस्ट्राजेनेका के तमाम वैक्सीन ट्रायल्स पर असर पड़ा है. साथ ही अन्य वैक्सीन निर्माताओं द्वारा किए जा रहे क्लीनिकल ट्रायल्स भी इससे प्रभावित हुए हैं.

ट्रायल पर रोक असामान्य नहीं

क्लीनिकल ट्रायल पर रोक असामान्य नहीं हैं और यह स्पष्ट भी नहीं है कि एस्ट्राजेनेका इसे कितने समय तक होल्ड पर रख सकता है. मौजूदा समय में नौ संभावित वैक्सीन ट्रायल के तीसरे चरण में हैं और सभी इस वैश्विक महामारी को काबू करने के नए तरीकों को खोजने में जुटे हैं.

सूत्रों के मुताबिक, शोधकर्ता अब तथाकथित ‘डेटा एंड सेफ्टी मॉनिटरिंग बोर्ड’ द्वारा रिव्यू किए गए डेटाबेस के आधार पर वैक्सीन से होने वाले साइड इफेक्ट के अन्य मामलों की जांच में जुट गए हैं. अब अगर इस तरह के और भी कई मामले सामने आते हैं तो वैक्सीन का जल्द आना मुश्किल हो जाएगा.

अगस्त में शुरू हुआ था तीसरे चरण का ट्रायल

बता दें कि एस्ट्राजेनेका ने अगस्त के अंत में सिर्फ अमेरिका में ही ट्रायल के तीसरे चरण की शुरुआत की थी. Oxford corona vaccine के क्लीनिकल ट्रायल रजिस्ट्रेशन के मुताबिक, अमेरिका में 62 जगहों पर इसका ट्रायल चल रहा है. हालांकि इनमें से कई ने अभी तक प्रतिभागियों की नामांकन प्रक्रिया भी नहीं शुरू की है.

बता दें कि इससे पहले भारत में Oxford corona vaccine वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल किया जाना है, लेकिन चंडीगढ़ के द पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (PGIMER) में होने वाला इस वैक्सीन का ट्रायल एक हफ्ते के लिए टाल दिया गया है. ये ट्रायल सितंबर के पहले हफ्ते में शुरू किया जाना था.

ट्रायल में होगी देरी

इस हफ्ते के देरी के पीछे सुरक्षा के कुछ कारण बताए जा रहे हैं. डाटा सेफ्टी मॉनिटरिंग बोर्ड (DSMB) ने समाचार एजेंसी IANS को जानकारी देते हुए बताया कि सेफ्टी अप्रूवल ना मिल पाने की वजह से इस ट्रायल को एक हफ्ते के लिए टाल दिया गया है. Oxford corona vaccine के ट्रायल के लिए 100 लोगों को चुना गया है.

ट्रायल में देरी की वजह से और वॉलंटियर्स की भर्ती रोक दी गई है. फिलहाल ट्रायल के लिए 400 लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है जिसमें 253 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी जाएगी.

ये भी पढ़ें : Rhea Chakraborty Update: गिरफ्तारी के बाद रिया के सपोर्ट में आए बॉलीवुड सेलेब्स, न्याय की मांग को लेकर कैंपेन शुरू

PGIMER में वैक्सीन ट्रायल शेड्यूल के प्रिंसिपल इन्वेस्टिगेटर प्रोफेसर मधु गुप्ता ने कहा, ‘फिलहाल, Oxford corona vaccine के ट्रायल के लिए वॉलंटियर्स की भर्ती को होल्ड पर डाल दिया गया है क्योंकि हम डाटा सेफ्टी मॉनिटरिंग बोर्ड की तरफ से पहले 100 वॉलंटियर्स की सुरक्षा की मंजूरी का इंतजार कर रहे हैं.’