NEP 2020: पीएम मोदी बोले- नई शिक्षा नीति किसी सरकार नहीं, बल्कि देश की नीति

0
256
NEP 2020: पीएम मोदी बोले- नई शिक्षा नीति किसी सरकार नहीं, बल्कि देश की नीति
(Image Courtesy: Google)

NEP 2020: राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP 2020) पर सोमवार को राज्यपालों की कांफ्रेस आयोजित की गई। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ramnath Kovind) और पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने इस दौरान कांफ्रेंस को संबोधित किया। सरकार की ओर से बीते दिनों ही नई शिक्षा नीति का ऐलान किया गया है, जिसपर अभी भी मंथन जारी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि देश के लक्ष्यों को NEP 2020 और व्यवस्था के जरिए ही पूरा किया जा सकता है। पीएम ने कहा कि शिक्षा नीति में सरकार का दखल कम होना चाहिए।

NEP 2020 में रखा गया हर वर्ग का ख्याल

नई शिक्षा नीति पर बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि इस नीति को तैयार करने में लाखों लोगों से बात की गई, जिनमें छात्र-शिक्षक-अभिभावक सभी शामिल थे।

ये भी पढ़ें : Kangna Ranaut को केंद्र ने दी वाई कैटेगरी की सुरक्षा, अभिनेत्री ने अमित शाह को कहा-थैंक्यू

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज हर किसी को ये NEP 2020 अपनी लग रही है, जो सुझाव लोग देखना चाहते थे वो दिख रहे हैं। अब देश में नई शिक्षा नीति को लेकर देश में उसके लागू करने के तरीके पर संवाद हो रहा है, ये इसलिए जरूरी है क्योंकि इससे 21वें सदी के भारत का निर्माण होना है।

न्यू इंडिया का सपना पूरा करेगी

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, आज दुनिया में नौकरियों को लेकर चर्चा हो रही है, ऐसे में NEP 2020 को ज्ञान और स्किल पर तैयार करेगी। ये नीति न्यू इंडिया और आत्मनिर्भर भारत के मिशन को पूरा करेगी। पीएम ने कहा कि लंबे वक्त से ये मांग उठ रही थी कि बच्चे बैग और बोर्ड एग्जाम में दब रहे हैं, ऐसे में अब इस मुश्किल को कम किया गया है। पीएम बोले कि अब कोई भी छात्र किसी भी स्ट्रीम को कभी भी ले सकता है और छोड़ सकता है।

शिक्षा नीति सरकार की नहीं बल्कि देश की नीति

पीएम मोदी ने कहा कि देश में ही बढ़िया कैंपस होंगे, जिससे बाहर पढ़ाई करने की कोशिशें कम होंगी। साथ ही कोशिश की गई है कि ऑनलाइन पढ़ाई को बढ़ावा मिले। पीएम ने कहा कि जैसे विदेश नीति किसी सरकार की ना होकर देश की होती है, ये शिक्षा नीति भी किसी सरकार नहीं बल्कि देश की शिक्षा नीति है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि नई शिक्षा नीति, पढ़ने के बजाय सीखने पर फोकस करती है और पाठ्यक्रम से और आगे बढ़कर गहन सोच पर ज़ोर देती है। इस पॉलिसी में प्रक्रिया से ज्यादा जुनून, व्यावहारिकता और प्रदर्शन पर बल दिया गया है।