योगी सरकार की बड़ी कार्रवाई, मुख्तार अंसारी की पत्नी के गजल होटल की 17 दुकानें कुर्क

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Govt) ने गाजीपुर में विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) के परिवार की संपत्ति पर एक बार फिर से कार्रवाई की है। यहाँ गजल होटल की इमारत के नीचले मंजिल पर बनी दुकानों पर कुर्की की कार्रवाई को अंजाम दिया गया।

यह होटल मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) की पत्नी आफशा अंसारी और बेटों के नाम पर दर्ज है। मुख्तार के खिलाफ यह कार्रवाई गैंगस्टर एक्ट के तहत की गई। इससे पहले भी कई जगहों पर मुख्तार अंसारी और उनके परिवार की संपत्ति जब्त की जा चुकी है।

बता दें कि गाजीपुर में थाना कोतवाली के महुआबाग में गजल होटल के नाम से इमारत बनी है। बुधवार (22 दिसंबर 2021) को शासन-प्रशासन का अमला भारी पुलिस बल के साथ वहाँ जा पहुँचा और होटल से लगी दुकानों पर कुर्की की कार्रवाई शुरु कर दी। इस दौरान होटल की इमारत के करीब मौजूद कुल 17 दुकानें खाली कराई गई।

कुर्की के दौरान पीएसी और कोतवाली पुलिस टीम मौजूद रही। कुर्क की गई संपत्तियों की अनुमानित कीमत 10 करोड़, 10 लाख रुपए के करीब है।

उल्लेखनीय है कि गजल होटल के ध्वस्तीकरण की कार्रवाई बीते वर्ष अक्टूबर महीने में हुई थी। इसके बाद कई और स्थानों पर भी मुख्तार की बेनामी संपत्ति को कुर्क करने की कार्रवाई की गई थी।

2020 में हुए इस ध्वस्तीकरण में गजल होटल बिल्डिंग में ऊपरी मंजिल पर बने होटल को ध्वस्त किया गया था और भूतल की दुकानों को छोड़ दिया गया था। अब पूरी प्रॉपर्टी को कुर्क करने की कार्रवाई की गई। 21 दिसंबर को डीएम एमपी सिंह ने गजल होटल के दुकानों को कुर्क करने का आदेश जारी किया था।

दुकानदारों ने नहीं माना आदेश

इधर निर्देश मिलते ही मंगलवार (21 दिसंबर 2021) देर शाम महुआबाग पहुँची कोतवाली पुलिस ने सभी 17 दुकानों को खाली करने का आदेश दिया। आदेश के बाद भी दुकानदारों द्वारा दुकान खाली नहीं किया गया।

ऐसे में बुधवार सुबह 10 बजे पहुँची पुलिस टीम ने दुकानदारों से दुकान खाली करने को कहा। सुबह 10.30 बजे सीओ ओजस्वी चावला और सदर एसडीएम मौके पर पहुँच गए। दोपहर 12.57 बजे मुनादी कराने के बाद 17 दुकानों को कुर्क कर दिया गया।

इससे पूर्व सभी दुकानों में राजस्व विभाग की टीम ने ताला बंदकर सील करने की कार्रवाई की। इस दौरान सड़क के दोनों तरफ लोगों की भीड़ लगी रही।

सीओ ओजस्वी चावला ने बताया कि गैंग लीडर मुख्तार अंसारी की बेनामी संपत्ति को जिलाधिकारी के आदेश पर कुर्क किया गया है। वहीं अटकलें लगाई जा रही हैं कि मुख्तार अंसारी 2022 में यूपी चुनाव में अपना किस्मत आजमाने उतरेंगे। फिलहाल वह बांदा जेल में बंद हैं।