भारत में चीन के खिलाफ विरोध तेज, 20 हजार कंपनियों का फैसला-नहीं इस्तेमाल करेंगे चीनी उत्पाद

0
211
Boycott-China-MSME-Noida
(Image Courtesy: Google)

#Boycott China. लद्दाख की गलवान घाटी में चीन की हरकत से भारत में गुस्सा उबाल पर है. नोएडा की करीब 20 हजार कंपनियों ने चीनी उत्पादों और उपकरणों का बहिष्कार कर दिया है. इन मशीनों और उत्पादों का इस्तेमाल भारत में बनने वाले सामान में किया जाता था.

दरअसल, नोएडा में करीब 20 हजार सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग हैं. MSME के गौतम बुद्ध नगर क्षेत्र संघ ने फैसला किया है कि सभी कारखानों में चीनी उत्पादों का बहिष्कार किया जाए.

एसोसिएशन ने लिखा पत्र

गौतम बौद्ध नगर MSME एसोसिएशन के अध्यक्ष ने सभी कारखानों को पत्र लिखकर चीनी उत्पादों के बहिष्कार का अनुरोध किया है. गलवान की घटना के बाद नोएडा में MSME क्षेत्र द्वारा एक सूची तैयार की गई है, जिसमें कहा गया है कि मौजूदा समय में अकेले MSME क्षेत्र ही नोएडा में विनिर्माण क्षेत्र (मेन्युफेक्चरिंग सेक्टर) के लिए कुल मिलकर 500 से अधिक उत्पादों का उपभोग कर रहा है. इसमें एलईडी लाइट्स, बोल्ट, पीपीई किट, मास्क और कई अन्य निर्माण सामग्री शामिल हैं.

गौतम बौद्ध नगर में MSME एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेंद्र नाहटा ने सभी कारखानों को पत्र लिखकर चीनी उत्पादों के बहिष्कार का अनुरोध किया है, साथ ही भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी एक पत्र लिखकर चीनी उपकरणों के बहिष्कार के निर्णय के बारे में जानकारी दी है.

लॉकडाउन में सरकार ने दी थी MSME को राहत

उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस के कारण जारी लॉकडाउन के बीच सरकार द्वारा MSME क्षेत्र और निर्माण के लिए बहुत सी राहत और उपाय किए गए हैं, क्योंकि इस दौरान MSME सेक्टर सबसे बुरी तरह प्रभावित हुआ और आखिरकार अब यह सेक्टर सामान्य स्थिति में लौट रहा है. लेकिन इसके बावजूद भी यह सेक्टर देश के हित में खड़े रहकर कठोर फैसला लेते हुए सस्ते चीनी उपकरणों और विनिर्माण में इस्तेमाल होने वाले उपकरणों का त्याग करने के लिए तैयार है.

केंद्रीय मंत्री ने भी की थी अपील

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने भी गुरुवार को लोगों से चीन के उत्पादों का बहिष्कार करने की अपील की थी. इस दौरान उन्होंने अपने मंत्रालय के अधिकारियों को दिन के कार्यालय उपयोग के लिए किसी भी चीनी उत्पाद की खरीद नहीं करने का निर्देश दिया है.

कैट ने भी सितारों से की चीनी उत्पादों के बहिष्कार की मांग

पूरे देशभर में देखे जा रहे चीनी सामान के विरोध के बीच व्यापारिक संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने एक खुले पत्र में सिनेमा और खेल की बड़ी हस्तियों, विशेष रूप से आमिर खान, दीपिका पादुकोण, कैटरीना कैफ, विराट कोहली और अन्य लोगों से अपील की है कि वे चीनी उत्पादों के विज्ञापन को करना बंद करें.

इनमें से कई हास्तियाँ चाइनीज मोबाइल और अन्य इलेक्ट्रोनिक उपकरणों के विज्ञापन करते आए हैं. कैट ने इन सभी से और अन्य सभी प्रसिद्द व्यक्ति, जो किसी भी प्रकार के चीनी उत्पाद का विज्ञापन कर रहे हैं, से अपील की है की उनके द्वारा चीनी ब्रांडों का विज्ञापन करना तुरंत बंद किया जाए.