Mike Pompeo ने की भारत की तारीफ, कहा-चीन को जवाब कैसे देते हैं, भारत से सीखिए

नई दिल्ली. कोरोना वायरस को लेकर अमेरिका ने एक बार फिर चीन पर को निशाने पर लिया है. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ (Mike Pompeo) ने चीन को कोरोना के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि चीन ने पूरी दुनिया को महासंकट में धकेला और फिर इस पर पर्दा डालने की कोशिश की.

माइक पोम्पिओ (Mike Pompeo)ने चीन की बढ़ती दादागिरी के खिलाफ भारत द्वारा उठाए गए कदमों की तारीफ करते हुए कहा कि दूसरे देशों को भारत से सीख लेनी चाहिए.

सिर्फ चीन जिम्मेदार

एक इंटरव्यू के दौरान अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ (Mike Pompeo) ने कहा कि कोरोना वायरस के प्रसार के लिए चीन के अलावा कोई जिम्मेदार नहीं है. दुनिया के बाकी देशों को अमेरिका का साथ देना चाहिए ताकि हम मिलकर चीन की जवाबदेही तय कर सकें. उन्होंने कहा कि चीन ने अपनी इस कारगुजारी को छिपाने के लिए कई झूठ बोले हैं और उसे इसकी सजा मिलनी चाहिए.

भारत ने बेहतरीन उदाहरण पेश किया

एक सवाल के जवाब में अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो (Mike Pompeo) ने कहा कि चीन के खिलाफ हमने कई कदम उठाए हैं. कोरोना के लिए उसे जिम्मेदार ठहराने के मामले में हम आगे बढ़ रहे हैं.

ये भी पढ़ें: बिहार चुनाव के बाद महागठबंधन में रार, Tejashwi Yadav का नेतृत्व हजम नहीं कर पा रही कांग्रेस

माइक पोम्पिओ (Mike Pompeo) ने आगे कहा, ‘हमारे सामने दो देशों ने बेहतरीन उदाहरण पेश किए हैं. दुनिया अब चीन को पीछे धकेलना चाहती है. आप भारत को देखिए, उसने चीनी ऐप्स को बैन कर दिया, चीन का सामान खरीदने से इनकार कर दिया. इसी तरह, ऑस्ट्रेलिया ने भी चीन को सही जवाब दिया. बाकी देशों को भी अब यही करना चाहिए.

जानबूझकर छिपाया सच

माइक पोम्पिओ (Mike Pompeo) ने चीन को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि चीन को वायरस के बारे में सब पता था. इसके बावजूद उसने कुछ नहीं किया, उल्टा अपने नागरिकों को दूसरे देश जाने दिया. इससे वायरस फैलता गया. चीन ने जानबूझकर दुनिया से सच छिपाया. आज पूरी दुनिया उसकी गलती का खामियाजा भुगत रही है. लाखों लोग मारे जा चुके हैं, सभी देशों की अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है. अब दुनिया को चाहिए कि वो चीन को जिम्मेदार ठहराए.