1.50 रुपए की गोली बनेगी कोरोना का रामबाण इलाज! ट्रायल में नतीजे देख डॉक्टरों की बढ़ी उम्मीद

0
197
Metformin-coronavirus
(Image Courtesy: Google)

नई दिल्ली. पिछले छह महीने से दुनिया में कोरोना वायरस का प्रकोप बहुत तेजी से बढ़ा है. ऐसे में डॉक्टर और वैज्ञानिक कोरोना वायरस की दवा खोजने में जुटे हुए हैं. अभी तक भारत में कुछ दवाओं के ट्रायल पूरे होने के बाद उनकी बिक्री शुरू हो चुकी है.

लेकिन, 1.50 रुपए की एक गोली ने डॉक्टरों और वैज्ञानिकों की उम्मीदें बढ़ा दी है. अगर इस दवा के नतीजे सही मिले तो यह दुनिया में कोरोना का सबसे सस्ता इलाज होगा.

डायबिटीज के मरीजों को दी जाती है दवा

दरअसल, यह दवा डायबिटीज के मरीजों को दी जाती है. इस दवा का नाम Metformin है, जिसके क्लीनिकल ट्रॉयल में कोरोना मरीजों को भी लाभ मिल सकता है. चीन के वुहान के डॉक्टरों ने कुछ केस स्टडी के आधार पर ये बात कह चुके है.

वहीं, अब अमेरिका के मिन्नेसोटा यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स का भी कहना है कि मेटफॉरमिन दवा कोरोना मरीजों की जान जाने के जोखिम को कम कर सकती है. मिन्नेसोटा यूनिवर्सिटी ने करीब 6 हजार मरीजों पर स्टडी की थी.

ब्रिटेन में लंबे समय से हो रही इस्तेमाल

द सन में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटेन की प्रमुख स्वास्थ्य संस्था नेशनल हेल्थ सर्विस पहले से इस दवा का इस्तेमाल कर रही है. डायबीटिज के साथ-साथ ब्रेस्ट कैंसर और हार्ट की बीमारियों में भी इस दवा से लाभ होने की बात कही जा रही है.

यह दवा काफी सस्ती है और भारत में Metformin 500 mg के एक टैबलेट की कीमत 1.5 रुपये है. टाइप 2 डायबिटीज के इलाज के लिए 1950 के दशक से ही इस दवा का उपयोग किया जा रहा है.

क्या कहती है स्टडी

वुहान के डॉक्टरों ने हाल ही में अपनी स्टडी प्रकाशित की जिसमें कहा गया है कि डायबिटीज से पीड़ित जो लोग कोरोना संक्रमित हुए और Metformin दवा ले रहे थे उनमें मौत की दर, यह दवा नहीं लेने वाले डायबिटीज के मरीजों की तुलना में कम थी.

ये भी पढ़ें : चीनी एप्स पर बैन से तमतमाया चीन, व्यापारिक यु;द्ध की धमकी दे बोला-भारत को उठाना होगा बडा नुकसान

डॉक्टरों ने कोरोना से गंभीर रूप से बीमार पड़े 104 मरीजों के डाटा की स्टडी की जिन्होंने Metformin दवा ली थी. इन मरीजों के डेटा की तुलना कोरोना के 179 अन्य गंभीर मरीजों से की गई. इस दौरान ध्यान रखा गया कि जिन मरीजों से तुलना की जा रही है, वे भी उसी उम्र और लिंग के हों.

मिले सकारात्मक नतीजे

स्टडी के दौरान वुहान के डॉक्टरों को पता चला कि Metformin लेने वाले सिर्फ 3 मरीजों की जान गई, जबकि इतने ही गंभीर 22 कोरोना मरीजों की मौत हो गई जिन्होंने ये दवा नहीं ली थी. कुछ स्टडीज में ये भी बात सामने आई है कि मोटापे के शिकार जो लोग डायबिटीज से पीड़ित नहीं हैं, उन्हें भी वजन घटाने में ये दवा मदद करती है. वहीं, यह भी देखा गया है कि मोटापे के शिकार लोगों को कोरोना से अधिक दिक्कत होती है और उनकी मौत का खतरा भी अधिक रहता है.