ममता बनर्जी के बिगड़े बोल, बीजेपी को बताया राजनीति महामारी… कहा-सबको बचने की जरूरत

कोलकाता। तृणमूल छात्र परिषद के स्थापना दिवस पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने बीजेपी और केंद्र सरकार की कड़ी आलोचना की। उन्होंने कहा है कि कोरोना महामारी एक दिन खत्म होगी, लेकिन लोगों को राजनीतिक महामारी से बचने की जरूरत है।

उन्होंने आरोप लगाया कि यह‌ राजनीतिक महामारी भाजपा फैला रही है। उन्होंने कहा कि बंगाल को बदनाम करने के लिए सोशल मीडिया के‌ जरिए झूठा प्रचार किया जा रहा है।

बीजेपी के खिलाफ आवाज उठाने की अपील

ममता ने कहा, बिहार में हुई घटना को कहा जाता है, वह बंगाल का मामला है। यहां तक कि बांग्लादेश की घटनाओं को भी बंगाल से जोड़ दिया जाता है। उन्होंने कहा कि ऐसे कई झूठे मामले सामने आ चुके हैं। इसके खिलाफ उन्होंने राज्य के लोगों से खड़ा होकर आवाज उठाने की अपील की। ममता ने इस दौरान छात्र नेता के तौर पर अपने राजनीतिक संघर्ष के दिनों को याद करते हुए कहा कि आज के छात्र ही कल देश के नेता बनेंगे। युवा और छात्र देश का भविष्य हैं।

इस दौरान उन्होंने ऐलान किया कि अगले वर्ष से नौ अगस्त को विद्यार्थी दिवस का पालन किया जायेगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि 16 सितंबर को तृणमूल कांग्रेस किसानों के साथ केंद्र की किसान विरोधी नीतियों के विरोध में खेतों में खड़ी होगी। सीएम ने कहा कि वह भी कुछ गांवों में कार्यक्रम में शामिल होंगी।

तृणमूल छात्र परिषद की ओर से दिया गया धरना

इधर, कोरोना संकट‌ के मद्देनजर जेइइ और नीट की परीक्षा आयोजित करने के केंद्र के फैसले के खिलाफ तृणमूल छात्र परिषद ने अपने स्थापना दिवस के मौके पर धर्मतल्ला में गांधी मूर्ति के पास एक घंटे तक धरना दिया। इस दौरान छात्र परिषद के नेताओं ने परीक्षा को आगे बढ़ाने की मांग की।