सामने आया Mamata Banerjee का अवैध घुसपैठियों से प्रेम, TMC विधायक ने सवाल उठाकर खोली पोल

0
436
सामने आया Mamata Banerjee का अवैध घुसपैठियों से प्रेम, TMC विधायक ने सवाल उठाकर खोली पोल
(Image Courtesy: Google)

कोलकाता: पश्चिम बंगाल (West Bengal) में अवैध घुसपैठियों का मामला एक बार फिर सामने आया है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) पर अवैध घुसपैठियों के मामले में नरम रुख अपनाने का फिर से आरोप लगा है. हालांकि, ममता इन आरोपों को हर बार नकारती रही हैं.

लेकिन इस बार ममता (Mamata Banerjee) के लिए ऐसा करना आसान नहीं होगा. क्योंकि इस बार उनकी पार्टी के विधायक ने ही अवैध घुसपैठियों को पश्चिम बंगाल के लिए बड़ा ख तरा बताया है.

TMC विधायक ने उठाए सवाल

अवैध घुसपैठियों पर ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) की सोच के खिलाफ सवाल उठाने वाले तृणमूल कांग्रेस के विधायक श्यामल मंडल हैं. ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) अब तक पश्चिम बंगाल में अवैध घुसपैठियों को बड़ा ख तरा मानने से बेशक इनकार करती रही हैं, लेकिन उन्हीं की पार्टी के विधायक ने अब अवैध घुसपैठियों को बड़ा खतरा बताया है.

श्यामल मंडल का कहना है कि हो सकता है कि अवैध घुसपैठियों को बसाने में तृणमूल कांग्रेस के कुछ नेता कार्यकर्ता भी शामिल हो, जिसकी जांच की जा रही है. अगर ऐसा पाया गया तो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को इसकी जानकारी भी दी जाएगी.

जंगल साफ कर रहे घुसपैठिए

कैनिंग वेस्ट विधानसभा क्षेत्र से टीएमसी विधायक श्यामल मंडल ने कहा है कि कुछ लोग मैंग्रोव जंगलों को साफ कर रहे हैं और मिट्टी खोद रहे हैं. घुसपैठिए इस काम में शामिल हैं. हमने इसका विरोध किया है. मंडल ने कहा है कि घुसपैठियों के पास कोई मतदाता पहचान पत्र, राशन कार्ड या कोई पहचान नहीं है. उन्होंने सवाल उठाए कि वे नदी कैसे पार कर सकते हैं? मैंग्रोव जंगलों को कैसे काट सकते हैं?

ये भी पढ़ें : गांधी जयंती पर Sonia Gandhi का केंद्र पर निशाना, कहा- किसानों को मोदी सरकार रुला रही है खू;न के आंसू

बीएसफ डीजी ने उठाए थे सवाल

बता दें कि इससे पहले बीएसएफ महानिदेशक केके शर्मा ने कहा था कि पश्चिम बंगाल सरकार के नरम रुख के कारण रोहिंग्या घुसपैठिये वहां का लगातार रुख कर रहे हैं. इसके बाद भारतीय जनता पार्टी ने इस मुद्दे को जोरशोर से उठाते हुए कहा था कि ममता बनर्जी सुरक्षा बलों के घुसपैठ रोकने प्रयास को भी तार-तार करने में लगी हैं.

बड़ी संख्या में रह रहे हैं रोहिंग्या

आपको बता दें कि भारत और बांग्लादेश के बीच 4,096 किलोमीटर लंबी सीमा है. बांग्लादेश में बड़ी संख्या में रोहिंग्या शरणार्थी शिविरों में रह रहे हैं. समय-समय पर उनमें से कुछ रोहिंग्या भारत में घुसने का प्रयास भी करते हैं. इनके लिए पश्चिम बंगाल सबसे आसान ‘शरण स्थली’ बना हुआ है. वहां से ये देश में कई जगह फेल रहे हैं. अस्थाई बस्तियों में इनके रहने के कई खुलासे हुए हैं.