Make in India का कमाल, बनाया सबसे ताकतवर Railway Engine.. अकेला खींचेगा मालगाड़ी के 150 डिब्बे

0
368
Make in India का कमाल, बनाया सबसे ताकतवर Railway Engine.. अकेला खींचेगा मालगाड़ी के 150 डिब्बे
(Image Courtesy: Google)

Make in India: भारतीय रेलवे ने मालगाड़ियों से ज्यादा से ज्यादा माल, कम समय में पहुंचाने में बड़ी सफलता हासिल की है. भारतीय रेलवे ने ‘Make in India‘ के तहत देश का सबसे शक्तिशाली इंजन (Most Powerful Railway Engine) डब्ल्यूएजी 12 (WAG 12 Locomotive) इंजन बनाया है. यह इंजन डेढ़ किमी लंबी मालगाड़ी को अकेला खींच सकता है.

रेलवे के इस नए इंजन की सबसे बड़ी खासियत है कि यह 12 हजार हॉर्स (WAG 12 Locomotive) पॉवर का है. यह रेलवे की तरक्की में नई क्रांति लाएगा जिससे देश में विकास के और रास्ते खुलेंगे.

अकेला खींच सकता है 150 डिब्बे की मालगाड़ी

रेलवे को उम्मीद है कि इस इंजन की बदौलत बड़े-बड़े उद्योगों को काफी लाभ पहुंचेगा, क्योंकि यह अकेला ऐसा इंजन (WAG 12 Locomotive) होगा जो 150 गाड़ी के डिब्बे अकेला खींचेगा. यह इंजन भारत का सबसे शक्तिशाली रेलवे इंजन है.

Make in India के तहत हो रहा Railway Engine का निर्माण

इन इंजनों को Make in India कार्यक्रम के तहत बिहार के मधेपुरा में तैयार किया जा रहा है. देश में लगभग 800 इंजन तैयार करने का लक्ष्य रखा गया है. यह रेल इंजन हरियाणा के हिसार में आ गया है. यहां लोको पायलटों को इसकी चलाने की ट्रेनिंग दी जा रही है. उन्हें इसके बारे में टेक्निकल जानकारियां दी जा रही हैं.

समाचार चैनल आजतक की ने हिसार के रेलवे स्टेशन अधीक्षक केएल चौधरी के हवाले से बताया कि Make in India कि Most Powerful Railway Engine का ट्रायल भी सफल हो चुका है. खास बात यह है कि दो इलेक्ट्रिक इंजन मिलाकर एक यूनिट (WAG 12 Locomotive) बनाया गया है, जिसमें मालगाड़ी के ज्यादा डिब्बे खींचने की शक्ति होगी.

ये भी पढ़ें : Iqbal Ansari की कोर्ट से अपील, बाबरी मामले में आडवाणी-जोशी समेत सभी आरोपी बरी हों

6 हजार हॉर्स पॉवर यानी एक Railway Engine की बात करें तो वह मालगाड़ी के 58 से 60 डिब्बे खींच सकता है मगर दो इंजन से तैयार किया गया यह डब्ल्यूजी 12 इंजन, मालगाड़ी के 150 डिब्बे खींचने की क्षमता रखता है. यह देश का सबसे शक्तिशाली इंजन है.

11 सितंबर को हिसार पहुंचा था Railway Engine

यह इंजन 11 सितंबर रात को हिसार भी पहुंचा और अगले दिन सुबह ही वापस चला गया. हिसार पहुंचने पर लोको पायलट को भी Most Powerful Railway Engine की ट्रेनिंग दी गई. खास बात है कि डब्ल्यूएजी 12 इंजन अकेला डेढ़ किलोमीटर तक लंबी मालगाड़ी को खींचने की क्षमता रखता है. इस इंजन की सामान्य गति 100 किलोमीटर प्रतिघंटा है मगर इसे 120 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से भी चलाया जा सकता है. इसकी लंबाई 35 मीटर है. इसमें एक हजार लीटर हाई कंप्रेसर कैपिसिटी के दो टैंक हैं.

स्टेशन अधीक्षक ने बताया कि यह इंजन (WAG 12 Locomotive) मालगाड़ियों को दौड़ाने में कारगर सिद्ध होगा. इससे जहां एक ओर समय की बचत होगी, वहीं इस इंजन में लोको पायलट को भी बेहतरीन सुविधाएं मिलेगी. इंजन पूरी तरह से एयरकंडीशन होगा और पायलटों के लिए इंजन में टायलेट-बाथरूम की व्यवस्था भी कर दी गई है. उन्होंने बताया कि इससे पहले 6 हजार हॉर्स पॉवर के इंजन होते थे परंतु इस नए इंजन से देश के व्यापार जगत को बढ़ावा मिलेगा.