सरेआम हुई चीन की इंटरनेशनल बेइज्जती, 2 टुकड़ों में बंटा चीन में बना घटिया ड्रोन… भड़के अफसर

0
89
Indo-China-Border-Army
(Image Courtesy: Google)

नई दिल्ली. भारत चीन सीमा विवाद के बीच अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक बार फिर चीन की इंटरनेशनल बेइज्जती हो गई है. दरअसल नाइजीरिया में मेड इन चाइना ड्रोन हादसे का शिकार हो गया.

इस घटना के बाद नाइजीरिया के सैन्य अफसर भड़क गए और चीन के ड्रोन को घटिया स्तर का कह डाला.

चीन से खरीदा था ड्रोन

दरअसल, चीन इस ड्रोन के जरिए अपनी ताकत दिखाना चाहता था. ड्रैगन को इस UAV CH-4 ड्रोन का बहुत गुमान था. इसके जरिये चीन अपने डिफेंस के साजो-सामान के धंधे को बड़ा करना चाहता था. चीन ने कई छोटे देशों को यह ड्रोन बेच भी दिया था.

ये भी पढ़ें : चीन को मोदी सरकार ने दिया 2900 करोड़ का झटका, गंगा पर पुल बनाने वाला चीनी कंपनी का ठेका रद्द

पाकिस्तान, इराक, सउदी अरब, मिस्र ऐसे ही देश हैं जिन्होंने चीन से इस ड्रोन को खरीद लिया था. लेकिन नाइजरिया ने जब इसे इस्तेमाल करना शुरू किया तो यह धड़ाम से जमीन पर गिरकर कई टुकड़ों में बंट गया.

अल्जीरियन एयरफोर्स ने दी जानकारी

अल्जीरियन एयरफोर्स के ट्विटर हैंडल ने इस दु;र्घ’टना की जानकारी दुनिया को दी है. हम आपको बताते चलें कि ये तीसरा मौका है जब नाइजीरिया में चीन का बना ड्रोन (यूएवी) दु;र्घ’टना ग्रस्त हुआ है. इसके पहले 2013 में और फिर 2014 में चीनी ड्रोन लैंडिग के वक्त संतुलन खोकर ज’ल उठा था. तब चीन ने सारी की सारा दोष नाइजिरिया पर मढ़ दिया था.

अमेरिका की नकल पड़ रही भारी

चीन ने अमेरिकी ड्रोन की नकल कर इस ड्रोन को तैयार किया था. लेकिन शायद चीन उस टेक्नोलॉजी की नकल में चूक गया. 2001 में अमेरिका के एक ड्रोन की इमरजेंसी लैंडिंग कराकर चीन ने तकनीक तो हासिल कर ली थी, मगर जब जरूरत इसके इस्तेमाल की पड़ी तो चीन का तमाशा बन गया.