कल से देशभर में फिर से शुरू हो जाएंगी ये सेवाएं, शर्तों के साथ लॉकडाउन में मिलेगी छूट

0
171
Lockdown in India
साभार: गूगल
नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस की वजह से चल रहे लॉकडाउन 2 के बीच सोमवार से केंद्र सरकार कई सेवाओं को फिर से खोलने जा रही है। केंद्र सरकार की तरफ से इन सेवाओं को लेकर लिस्ट जारी की गई है। हालांकि, जिन इलाकों में कोरोना के मरीज मिल रहे हैं, वहां यह सूची लागू नहीं होगी। उन इलाकों में पहले की तरह ही प्रतिबंध लागू रहेंगे।

शनिवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक के दौरान विभिन्न सेवाओं पर लागू प्रतिबंधों में ढील देने का फैसला किया गया। इसके बाद केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पूरी सूची जारी की।

बैठक में कोरोना वायरस की वजह से उत्‍पन्‍न स्थिति की समीक्षा की गई। इस दौरान जिन क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण नहीं मिलेगा, वहां सशर्त कारोबार खोलने की योजना को अंतिम रूप भी दिया गया।

45 फीसदी अर्थव्यवस्था दोबारा होगी शुरू

सरकार के इस फैसले से लगभग 45 फीसदी अर्थव्यवस्था दोबारा शुरू हो जाएगी। विभिन्न मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, ग्रामीण अर्थव्यवस्था पर सरकार ने विशेष ध्यान दिया है। इसके साथ ही लोगों की रोजमर्रा की जरूरत के सामान वाले क्षेत्रों में भी काम से अर्थव्यवस्था में सुधार बढ़ेगा।

इन्हें मिलेगी छूट

प्रस्तावित योजना के मुताबिक, देशभर में इस छूट के बाद करीब 20 से 25 लाख दुकानें खुल जाएंगी। खासतौर पर मेडिकल उपकरण, आईटी हार्डवेयर, खनन और जूट उद्योग से जुड़ी कंपनियों में उत्पादन दोबारा शुरू हो सकेगा।

इसके अलावा किराना, राशन की दुकानें, फल-सब्जी के ठेले, साफ-सफाई का सामान, पोल्ट्री, मीट, मछली और चारा बेचने वाली दुकानें खोलने को भी मंजूरी दी गई है। साथ ही ई-कॉमर्स कंपनियां काम शुरू कर सकेंगी। इससे देशभर में करीब 20 से 25 लाख दुकानें खुल जाएंगी।

साथ ही साथ सरकार के लिए काम करने वाले डेटा, आईटी सेवाओं वाले दफ्तर और कॉल सेंटर आदि भी सोमवार से खुल जाएंगे। सरकार ने साथ ही स्थानीय स्तर पर प्लंबर, मोटर मैकेनिक, कुरियर, डीटीएच, केबल सेवा और इलेक्ट्रीशियन जैसी सेवाएं देने वालों को भी काम शुरू करने की छूट दी है।

कृषि क्षेत्र पर यह ऐलान

खेती और इससे जुड़ी सेवाएं को शुरू करने से 50 फीसदी लोगों को काम मिलेगा। दरअसल, देश में खाद्यान्न की कमी ना हो और खड़ी फसलें बरबाद ना हो, इसलिए सरकार ने अहम फैसला किया है। सोमवार से रबी फसल की खरीदारी शुरू हो जाएगी। इस कदम से किसानों को उनकी फसल का मूल्य मिलने के साथ अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने में मदद मिलेगाी।

ईंट भट्टों, फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री, कोल्ड स्टोरेज, वेयरहाउस सर्विस, मछलियों का भोजन, मेंटेनेंस, प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, मार्केटिंग, हैचरी, कमर्शियल एक्वेरियम, मत्स्य उत्पाद, फिश सीड, चाय, कॉफी, रबर, काजू की प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, दूध का कलेक्शन, प्रोसेसिंग, मक्का की मैन्युफेक्चरिंग व डिस्ट्रिब्यूशन का काम शुरू होगा।

खुली रहेंगी ये सेवाएं

  1. सभी स्वास्थ्य सेवाएं
  2. सभी कृषि और बागवानी गतिविधियाँ
  3. मछली पकड़ने (समुद्री / अंतर्देशीय) जलीय कृषि उद्योग का संचालन
  4. वृक्षारोपण गतिविधियां जैसे चाय, कॉफी और रबर के बागान, अधिकतम 50 प्रतिशत श्रमिकों काम कर सकेंगे
  5. पशुपालन गतिविधियां
  6. वित्तीय क्षेत्र
  7. सामाजिक क्षेत्र
  8. मनरेगा के कार्य- सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क अनिवार्य तौर पर पहनना होगा
  9. सार्वजनिक सुविधायें
  10. माल / कार्गो (इंटर और इंट्रा) राज्य को लोड करने और उतारने की अनुमति
  11. ऑनलाइन शिक्षण / दूरस्थ शिक्षा
  12. आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति वाणिज्यिक और निजी प्रतिष्ठानों को संचालित करने की अनुमति दी जाएगी
  13. उद्योग / औद्योगिक प्रतिष्ठान (सरकारी और निजी दोनों)
  14. निर्माण गतिविधियां
  15. चिकित्सा और पशु चिकित्सा सहित आपातकालीन सेवाओं के लिए निजी वाहन
  16. आवश्यक वस्तुओं की खरीद के लिए और राज्य / केन्द्र शासित प्रदेश के स्थानीय प्राधिकरण के निर्देशों के अनुसार छूट श्रेणियों में काम के लिए यात्रा करने वाले सभी कर्मियों को अनुमति
  17. भारत सरकार और राज्य और केंद्रशासित प्रदेशों के कार्यालय खुले रहेंगे