सुप्रीम कोर्ट के वकील का बड़ा आरोप- करीबियों संग मिलकर अखिलेश यादव ने बनाईं फर्जी कंपनियां

नई दिल्ली: इत्र कारोबारी पीयूष जैन (Piyush Jain) के कानपुर और कन्‍नौज स्थित घर से अब तक 194 करोड़ की नकदी और कई किलो सोना-चांदी मिल चुका है। उनको सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) का करीबी बताया जा रहा है।

इस बीच, सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के एक वकील ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav), उनके करीबी रिश्तेदार और अन्य करीबियों पर फर्जी कंपनियां बनाकर करोड़ों रुपये के लेन-देन का आरोप लगाया है।

दूसरी ओर, सपा ने इसे भाजपा की तरफ से प्रायोजित बताया है। उन्‍होंने कहा है कि उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव में निश्चित हार से घबराई भाजपा अब पार्टी अध्यक्ष यादव और उनके करीबियों को बदनाम करने का हर हथकंडा आजमा रही है।

अधिवक्ता विश्वनाथ चतुर्वेदी ने प्रेस वार्ता में दावा किया कि प्रदेश की पूर्ववर्ती सपा सरकार के कार्यकाल में 16 फर्जी कंपनियों के सहारे करोड़ों रुपये की बेनामी संपत्तियों की खरीद फरोख्त करने और देश विदेश से करोड़ों रुपये खाते में लेन-देन का प्रमाण है। उन्होंने कहा कि आयकर विभाग को एक साल पहले इसका पूरा विवरण सौंपा जा चुका है लेकिन इसके बावजूद अभी तक कार्रवाई लंबित है।

वहीं, सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने चतुर्वेदी के इन आरोपों को भाजपा प्रायोजित करार देते हुए कहा कि सत्तारूढ़ दल को पूरी तरह एहसास हो गया है कि आगामी विधानसभा चुनाव में उसे शिकस्त मिलेगी इसलिए वह सपा अध्यक्ष और उनके करीबी लोगों को बदनाम करने में जुट गई है।