होम टॉप न्यूज Kisan Mahapanchayat में राहुल की हुंकार, कहा-किसानों के सामने अंग्रेज नहीं टिके,...

Kisan Mahapanchayat में राहुल की हुंकार, कहा-किसानों के सामने अंग्रेज नहीं टिके, मोदी कौन हैं?

0
401
Rahul Gandhi in Kisan Mahapanchayat
Image Source: ANI

नई दिल्ली। Kisan Mahapanchayat Rajasthan: देश की राजधानी दिल्ली में किसानों का आंदोलन 78 दिनों से जारी है। किसानों के इस आंदोलन को विपक्ष लगातार सरकार को घेर रहा है। इसी कड़ी में शुक्रवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी दो दिन के दौरे पर राजस्थान पहुंचे हैं। यहां हनुमानगढ़ के पीलीबंगा में किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) को राहुल ने संबोधित किया। राहुल ने इस दौरान पीएम मोदी पर जमकर निशाना साधा।

किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस की हमेशा कोशिश रही है कि खेती किसी एक हाथ में न जाए। लेकिन, नए कानून में इसका उलट किया जा रहा है। शाम को श्रीगंगानगर के पदमपुर में एक अन्य रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री पर कटाक्ष करते हुए कहा कि देश के किसानों के सामने अंग्रेज नहीं टिक पाए तो नरेंद्र मोदी कौन हैं।

आपका भविष्य और जमीन छीन रही सरकार

इससे पहले पीलीबंगा किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) में राहुल ने कहा कि मोदी जी कहते हैं कि हम किसानों के साथ बात करना चाहते हैं। आप क्या बात करना चाहते हैं? (कृषि) कानूनों को खत्म करें, किसान आपके साथ बात करेंगे। आप उनकी जमीन और भविष्य को छीन रहे हैं। ऐसे में आप उनसे बात करना चाहते हैं। पहले कानून वापस लें, फिर बात करें।

किसान महापंचायत में (Kisan Mahapanchayat) किसानों से बात करते हुए पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि आपके लिए जो ये तीन कानून आए हैं, इनका लक्ष्य क्या है। मोदीजी इन्हें क्यों ला रहे हैं, इसे मैं आपको समझाऊंगा। कृषि दुनिया का सबसे बड़ा व्यापार है, क्योंकि इससे करोड़ों लोगों को भोजन मिलता है। भारत की 40 प्रतिशत जनता इस व्यापार को चलाती है। कांग्रेस की कोशिश रही है कि कृषि किसी एक के हाथ में न जाए। आजादी के बाद यही हमारा लक्ष्य रहा है कि इसमें 40 प्रतिशत लोगों की भागीदारी रहे।

राहुल ने कहा कि मैं यहां आपको आश्वासन देने आया हूं कि इन कानूनों को बढ़ने नहीं देंगे। हम इन्हें रद्द करवाकर ही मानेंगे। तीन कानून क्या हैं? ये लोग कृषि के बिजनेस को किसान, खेतिहर से छीनना चाहते हैं। सरकार का लक्ष्य है कि 40 प्रतिशत लोगों का व्यापार 2-3 लोगों के हाथ में चला जाए। वे अपने उद्योगपति दोस्तों के लिए रास्ता बना रहे हैं।

दो हाथों में चला जाएगा 40 लाख करोड़ का कारोबार

शाम में श्रीगंगानगर के पदमपुर में किसान रैली (Kisan Rally) को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि जिस दिन नए कृषि कानून लागू होंगे, उस दिन से देश के 40 फीसदी लोगों का 40 लाख करोड़ रुपये का कारोबार सिर्फ दो लोगों के हाथों में चला जाएगा। इन कानूनों के खिलाफ आंदोलन सिर्फ किसानों का नहीं है। किसानों ने अंधकार में रोशनी दिखाई है।

ये भी पढ़ें: Fakkad Baba: 60 साल से गुफा में रह रहे संत ने राम मंदिर के लिए दान किए 1 करोड़ रुपए, सभी हैरान

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने किसान आंदोलन को पूरे देश का आंदोलन बताते हुए कहा कि इसका दायरा अभी और बढ़ेगा। केंद्र सरकार द्वारा किसानों की कानून वापस लेने की मांग नहीं मानने की ओर इशारा करते हुए गांधी ने कहा कि यह शर्म की बात है। यह आंदोलन फैलेगा। यह आंदोलन किसानों से शहरों में फैलेगा। इसलिए मैं नरेंद्र मोदी से कह रहा हूं कि उन्हें किसानों की बात सुन लेनी चाहिए। अंत में करना ही पड़ेगा। हिंदुस्तान के किसान, मजदूरों के सामने अंग्रेज नहीं टिक पाए तो नरेंद्र मोदी कौन हैं। कानून तो वापस लेने ही पड़ेंगे। इसलिए कह रहा हूं कि आज ले लो ताकि देश आगे बढ़े … लेकिन जिद कर रहे हैं।

बता दें कि इस पहले राहुल गांधी ने आज सुबह एक प्रेस कांफ्रेंस कर मोदी सरकार को चीन के मुद्दे पर भी घेरा था। उन्होंने मोदी सरकार पर भारत की जमीन चीन को देने का आरोप लगाया है।