Kim Jong Un ने रोते हुए अपने देशवासियों से मांगी माफी, कहा- आपके विश्वास पर खरा नहीं उतरा

सियोल. उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग-उन (Kim Jong Un) ने पहली बार अपने देश के लोगों से माफी मांगी है. किम ने कोरोना महामारी के समय लोगों के साथ खड़े न हो पाने की वजह से माफी मांगी. अपनी पार्टी के 75वें स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में भावुक किम (Kim Jong Un) ने इस बात को स्वीकार किया कि वह उस विश्वास पर खरे नहीं उतरे हैं.

किम जोंग (Kim Jong Un) ने माना कि उत्तर कोरियाई लोगों को उनपर जो विश्वास जताया था, वह उसपर खरे नहीं उतरे और इसके लिए वह क्षमा चाहते हैं.

भाषण के दौरान भावुक हुए किम

गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार किम (Kim Jong Un) ने भाषण के दौरान अपना चश्मा उतारा और आंसू पोंछे. अपने पूर्वजों द्वारा किए गए महान कार्यों की विरासत का जिक्र करते हुए किम ने कहा, ‘यद्यपि मुझे इस देश का नेतृत्व करने की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई है, जो किम 2-सुंग और किम जोंग-इल के कारण है. मैं लोगों का मुझपर विश्वास रखने के लिए धन्यवाद देता हूं. मेरे प्रयास और ईमानदारी जीवन में आने वाली कठिनाइयों से हमारे लोगों को छुटकारा दिलाने के लिए पर्याप्त नहीं हैं.’

ये भी पढ़ें: चुनाव प्रचार के बीच कांग्रेस पर भड़के शिवराज, बोले-‘मैं भूखा-नंगा हूं, कमलनाथ उद्योगपति’,

अपने भावनात्मक भाषण में किम (Kim Jong Un) ने इस समय कोरोना वायरस के कारण चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना कर रहे विश्व के बारे में बात की और उन्होंने दक्षिण कोरिया के साथ संबंध सुधारने की इच्छा जताई. उन्होंने अमेरिका पर किसी भी प्रत्यक्ष आलोचना से परहेज किया.

2 दिन पहले किया था मिसाइल का प्रदर्शन

शनिवार को उत्तर कोरिया ने अपनी नई मिसाइल का प्रदर्शन किया, जो कि एक विशाल सैन्य परेड में उत्तर कोरिया की ज्ञात अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों (आईसीएमबीएस) से भी बड़ी है. परेड के बाद दक्षिण कोरिया ने रविवार को चिंता व्यक्त की और एक बार फिर उत्तर कोरिया से अपने पिछले अशस्त्रीकरण के वादों का पालन करने का आग्रह किया.

दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘उत्तर कोरिया ने ह थि; या-रों का अनावरण किया जिसमें एक नई लंबी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल होने का संदेह है.’ बयान में उत्तर कोरिया को अपनी 2018 अंतर-कोरियाई सौदों के जरिए दुश्मनी को कम करने के उद्देश्य के बारे में याद दिलाया गया.