स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे पर केशव मौर्य बोले- ‘जल्दबाजी के फैसले अक्सर गलत साबित होते हैं’

डेस्क: उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव (UP Election 2022) से ठीक पहले स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) ने योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi Govt) के मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है। उधर, समाजवादी पार्टी (एसपी) चीफ अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने एक ट्वीट कर स्वामी प्रसाद मौर्य का ‘एसपी में स्वागत’ भी किया है।

इस बीच, उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) ने एक ट्वीट कर इस मामले पर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है, ”आदरणीय स्वामी प्रसाद मौर्य जी ने किन कारणों से इस्तीफा दिया है, मैं नहीं जानता हूं। उनसे अपील है कि बैठकर बात करें। जल्दबाजी में लिए हुए फैसले अक्सर गलत साबित होते हैं।”

बताया जा रहा है कि केंद्रीय गृह मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अमित शाह (Amit Shah) भी लगातार स्वामी प्रसाद मौर्य के संपर्क में हैं।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने इस्तीफे की क्या वजह बताई?

स्वामी प्रसाद मौर्य ने राज्यपाल को लिखे लेटर में कहा है, ”दलितों, पिछड़ों, किसानों, बेरोजगार नौजवानों और छोटे-लघु एवं मध्यम श्रेणी के व्यापारियों की घोर उपेक्षा वाले रवैये के कारण उत्तर प्रदेश के मंत्रिमंडल से मैं इस्तीफा देता हूं।”

बता दें कि पिछले कई दिनों से ये अटकलें बहुत जोरों पर थीं कि स्वामी प्रसाद मौर्य सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का दामन छोड़कर समाजवादी पार्टी (एसपी) में शामिल हो सकते हैं।

अब एसपी चीफ अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा है, ”सामाजिक न्याय और समता-समानता की लड़ाई लड़ने वाले लोकप्रिय नेता श्री स्वामी प्रसाद मौर्य जी एवं उनके साथ आने वाले अन्य सभी नेताओं, कार्यकर्ताओं और समर्थकों का सपा में ससम्मान हार्दिक स्वागत एवं अभिनंदन! सामाजिक न्याय का इंक़लाब होगा, बाइस में बदलाव होगा”

स्वामी प्रसाद मौर्य भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल होने से पहले बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) में थे। बीएसपी के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव स्वामी प्रसाद मौर्य 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी में शामिल हुए थे।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.