जिन्ना के नाम पर बना टॉवर, मचा बवाल… बीजेपी बोली-नाम बदलो नहीं तो करेंगे कार सेवा

हैदराबाद। आंध्र प्रदेश के गुंटूर शहर में ‘जिन्ना टॉवर’ (Jinnah Tower) के नाम को लेकर बवाल शुरू हो गया है। इस टावर के नाम को बदलने की मांग को लेकर राजनीति चरम पर है। भारतीय जनता पार्टी ने पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना के नाम पर रखे गए गुंटूर के ‘जिन्ना टॉवर’ का नाम बदलने की मांग कर रही है।

गुंबद के आकार का है Jinnah Tower

दरअसल, महात्मा गांधी रोड पर गुंटूर के केंद्र में स्थित जिन्ना टॉवर साल 1945 के आसपास बनाया गया एक लंबा स्मारक है। ऐसा माना जाता है कि 1945 में विभाजन से पहले, जिन्ना एक जनसभा को संबोधित करने के लिए गुंटूर आने वाले थे। तभी से स्थानीय मुसलमानों ने उनके नाम पर एक मीनार का नाम रखा है।

इस टॉवर में गुंबद के आकार की संरचना के साथ छह पिलर हैं और इसे स्थानीय लोगों द्वारा सद्भाव और शांति का प्रतीक माना जाता है। इतना ही नहीं इस स्थान को जिन्ना सेंटर के रूप में भी जाना जाता है।

पूर्व राष्ट्रपति कलाम के नाम पर रखने की मांग

तेलंगाना में बीजेपी विधायक राजा सिंह ने मांग की कि आंध्र प्रदेश सरकार जिन्ना टॉवर (Jinnah Tower) का नाम तुरंत बदले। उन्होंने कहा, आप एक ऐसे व्यक्ति के नाम का इस्तेमाल कैसे जारी रख सकते हैं जो देश के बंटवारे और कई लोगों की मौत के लिए जिम्मेदार है। स्थानीय बीजेपी चाहती है कि प्रशासन जिन्ना का नाम हटाकर इस टॉवर का नाम एपीजे अब्दुल कलाम टॉवर का नाम बदल दे। इस संबंध में गुंटूर नगर आयुक्त को बीजेपी कार्यकर्ताओं ने ज्ञापन दिया।

ये भी पढ़ें : चुनाव से पहले सपा को बड़ा झटका, समाजवादी पार्टी छोड़ बीजेपी में शामिल हुए पूर्व मंत्री

बीजेपी ने दिया अल्टीमेटम

वहीं बीजेपी नेता वी. जयप्रकाश नारायण ने कहा कि ‘ये गुंटूर के लिए काला धब्बा है। ये जिन्ना टॉवर (Jinnah Tower) हमारे आत्मसम्मान को आहत करता है। अगर प्रशासन ने इसका नाम बदलकर एपीजे अब्दुल कलाम नहीं किया तो हम इसे हटाने के लिए कार सेवा करेंगे क्योंकि अयोध्या में बाबरी को हटाने के लिए कार सेवा की गई थी। सत्तारूढ़ सरकार और पिछली सरकारों ने वोटबैंक की राजनीति के लिए ऐसा नहीं किया। हम इसका तुरंत नाम बदलने का अल्टीमेटम दे रहे हैं। हालांकि, इस मामले में सत्तारूढ़ वाईएसआरसीपी सरकार और जिला प्रशासन ने अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।