भारत के खिलाफ चीन-पाक ने रचा ‘रावलपिंडी प्लान’, दो मोर्चों पर कर रहे तैयारी

0
227
भारत के खिलाफ चीन-पाक ने रचा 'रावलपिंडी प्लान', दो मोर्चों पर कर रहे तैयारी
(Image Courtesy: Google)

नई दिल्ली. लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव के बीच चीनी सेना के मुकाबले भारतीय सेना रणनीतिक बढ़त बनाए हुए हैं. ऐसे में चीन अब पाकिस्तान की सेना और आ’तं कियों को मोहरा बनाकर भारत के खिलाफ एक साथ दो मोर्चा खोलने की सा जि’श रच रहा है.

दरअसल, भारतीय सेना ने जिस तरह पहले गलवान घाटी में और अब पेंगॉन्ग झील के दक्षिणी किनारे पर चीनी सेना के मंसूबों को फेल कर दिया है, उससे चीन और झुंझला गया है.

1962 आ रहा याद

ऐसे में चीन के दिमाग में 1962 वाला यु’द्ध घूम रहा है. तब चीन ने LOC पर पाकिस्तानी सेना को खड़ा करके, भारत के खिलाफ एक साथ युद्ध के दो मोर्चे खोल दिये थे. अब एक बार फिर चीन उसी रास्ते पर चल पड़ा है.

ये भी पढ़ें : भगवान राम के नाम पर भी फर्जीवाड़ा, श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट के खाते से निकाले गए 6 लाख रुपये

खुफिया एजेंसियों के मुताबिक भारत के खिलाफ LOC पर सेना की तैनाती बढ़ाने के बदले में चीन ने पाकिस्तान के साथ एक डील भी की है. डील के तहत चीन, पाकिस्तान को ह थि’यार और नई तकनीक देने में जुटा है. चीन अपने VT-4 टैं क की नई तकनीक पाकिस्तान को दे रहा है. VT-4 मेन बैटल टैं क है, जिसका इस्तेमाल चीन की सेना करती है.

यूं कर रहा पाकिस्तान की मदद

इसके अलावा चीन, पाकिस्तान के लिए 120 अल खालिद-1 टैं क बनाने में भी मदद कर रहा है. खुफिया एजेंसियों के मुताबिक चीन, पाकिस्तान के लिए सिर्फ टैं क अपग्रेडेशन में ही मदद नहीं कर रहा बल्कि आ र्टि’लरी को बेहतर बनाने के लिए भी मदद कर रहा है.

पाकिस्तान चीन की SH-15 ट्रैक माउंटेड ग न को खरीदने की फिराक में है जिनका इस्तेमाल पाकिस्तानी सेना, पीओके में कई जगह भारत के खिलाफ कर सकती है . सूत्रों के मुताबिक चीन, पाकिस्तान को A-100 मल्टी पल रॉ केट लॉ न्चर की एक खेप दे चुका है. इतना ही नहीं पाकिस्तान, चीन की मदद से VOIP यानी के जरिये खुफिया मॉनिटरिंग सिस्टम तैयार करना चाहता है ताकि भारत पर नजर रखी जा सके.