भारतीय वैज्ञानिक का दावा, 21 जून को सूर्य ग्रहण पर खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस

0
325
(Image Courtesy: Google)

चेन्नई. चीन से शुरू हुआ कोरोना वायरस (Covid-19) मानव सभ्यता के लिए ग्रहण बन चुका है. कोरोना वायरस का सफाया भी ग्रहण (Solar Eclipse) के साथ होगा. यह दावा हम नहीं बल्कि भारत के मशहूर न्यूक्लियर व अर्थ साइंटिस्ट डॉ. केएल सुंदर कृष्णा ने किया है.

डॉ. कृष्णा का कहना है कि पिछले साल 26 दिसंबर को जो सूर्य ग्रहण लगा था, उसका सीधा संबंध कोरोना वायरस से है. डॉ. कृष्णा ने कहा कि आने वाली 21 जून को सूर्यग्रहण के साथ कोरोना वायरस समाप्त हो जाएगा.

मीडिया से बातचीत में किया दावा

डॉ. कृष्णा का कहना है कि सूर्यग्रहण के बाद निकलने वाली फ्यूजन एनर्जी (fission energy) के कारण पहले न्यूट्रॉन के कण के संपर्क के बाद कोरोनो वायरस टूट गया है.

ये भी पढ़ें : नेपाल संसद में पास हुआ विवादित नक्शा, सदन में लगे ‘भारत से इलाका वापस लो’ के नारे

समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि दिसंबर 2019 से कोरोनो वायरस हमारे जीवन को नष्ट करने के लिए आया है. मेरी समझ के अनुसार, 26 दिसंबर को आखिरी सूर्य ग्रहण होने के बाद सौर मंडल में ग्रहों की स्थिति में बदलाव हुआ है.

ग्रहों की ऊर्जा में बदलाव से पैदा हुआ कोरोना

डॉ. कृष्णा ने कहा, ग्रहों के बीच ऊर्जा में बदलाव के कारण यह वायरस ऊपरी वायुमंडल से उत्पन्न हुआ. इसी बदलाव के कारण धरती पर सही वातावरण बना. ये न्यूट्रॉन सूर्य की सबसे अधिक फ्यूजन एनर्जी से निकल रहे हैं.

ये भी पढ़ें : नेपाल संसद में पास हुआ विवादित नक्शा, सदन में लगे ‘भारत से इलाका वापस लो’ के नारे

न्यूक्लियर फॉर्मेशन की यह प्रक्रिया बाहरी मटेरियल के कारण शुरू हुई होगी, जो ऊपरी वायुमंडल में बायो मॉलिक्यूल और बायो न्यूक्लियर के संपर्क में आने से हो सकता है. उन्होंने बताया, बायो मॉलिक्यूल संरचना यानि प्रोटीन का म्यूटेशन इस वायरस का एक संभावित स्रोत हो सकता है.

सूरज की किरणों से खत्म होगा कोरोना

डॉ. केएल सुंदर कृष्णा के अनुसार म्युटेशन प्रोसेस सबसे पहले चीन में शुरू हुआ. हालांकि, इस दावे का कोई पुख्ता सबूत नहीं हैं. उन्होंने कहा कि हो सकता है यह एक प्रयोग या जानबूझकर किए गया प्रयास हो है.

डॉ. कृष्णा ने कहा कि आने वाला सूर्य ग्रहण कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए एक महत्वपूर्ण मोड़ साबित हो सकता है. सूर्य की किरणों की तीव्रता वायरस को बेअसर कर देगी.

सूर्य ग्रहण इस वायरस का प्राकृतिक उपचार

डॉ. कृष्णा ने दावा कि हम लोगों को कोरोना वायरस से घबराने की जरूरत नहीं है. यह सौरमंडल में होने वाली प्राकृतिक हलचल है. सूर्य की किरणें और सूर्य ग्रहण इस वायरस का प्राकृतिक इलाज है.

21 जून को लग रहा सूर्यग्रहण

करीब एक हफ्ते बाद यानि 21 जून को सूर्यग्रहण लगने जा रहा है. ज्योतिषशास्त्र के अनुसार 21 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण को काफी महत्वपूर्ण घटना है.

रविवार को सूर्य ग्रहण सुबह करीब 10.20 बजे शुरू होगा और दोपहर 1.49 बजे खत्म होगा. इसका सूतक 12 घंटे पहले यानी 20 जून को रात 10.20 पर शुरू हो जाएगा, जो ग्रहण के साथ ही खत्म होगा. ये ग्रहण भारत, नेपाल, पाकिस्तान, सऊदी अरब, यूएई, इथियोपिया और कांगो में दिखाई देगा.