India Superpower: चीन के बाद अमेरिका ने भी माना- ताकतवर हो रहा भारत, कहा- साथ मिलकर काम करेंगे

नई दिल्ली. अमेरिका क्षेत्रीय और वैश्विक शक्ति के रूप में उभरते भारत (India Superpower) का स्वागत करता है. अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने नयी दिल्ली में 2+2 मंत्रीस्तरीय बैठक से पहले यह कहा. उसने यह भी कहा कि भारत के एक जनवरी 2021 से शुरू हो रहे यूएनएससी के कार्यकाल के दौरान अमेरिका उसके साथ काम करने को लेकर भी उत्सुक है.

भारत और अमेरिका के बीच दिल्ली में होने जा रही तीसरी 2+2 मंत्रीस्तरीय बैठक से पहले विदेश मंत्रालय ने एक फैक्ट शीट में कहा, ” भारत के एक क्षेत्रीय और वैश्विक शक्ति (India Superpower) बनकर उभरने का अमेरिका स्वागत करता है. अमेरिका संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत के आगामी कार्यकाल के दौरान उसके साथ निकटता से काम करने को भी उत्सुक है.”

रक्षा मंत्री और विदेश मंत्री से करेंगे मुलाकात

अमेरिका के रक्षा मंत्री मार्क एस्पर और विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ अपने भारतीय समकक्षों क्रमश: राजनाथ सिंह तथा एस. जयशंकर के साथ 2+2 मंत्रीस्तरीय बैठक करेंगे. अमेरिकी विदेश विभाग ने बताया कि एस्पर और पोम्पिओ पीएम नरेन्द्र मोदी से भी मुलाकात करेंगे और अमेरिका-भारत व्यापक वैश्विक रणनीतिक साझेदारी को आगे बढ़ाने के बारे में सरकारी और कारोबारी जगत के अगुआओं से भी बात करेंगे. फैक्ट शीट में विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों देशों के बीच साझा मूल्यों और स्वतंत्र एवं मुक्त हिंद-प्रशांत के लिए प्रतिबद्धता पर निर्मित मजबूत तथा बढ़ते द्विपक्षीय संबंध हैं.

चीन ने भी माना था- बढ़ रही है भारत की ताकत

दूसरी तरफ भारत और अमेरिकी के बीच मजबूत हो रहे रिश्तों के मायने तलाशते हुए चीन भी मान चुका है कि भारत की राष्ट्रीय ताकत बढ़ रही है और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी उसकी स्थिति मजबूत हो रही है. हालांकि, उसने यह भी कहा कि अमेरिका की ताकत घट रही है और उभरता हुआ भारत (India Superpower) इस स्थिति का पूरा फायदा उठाने की कोशिश करेगा.

चीन सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने भारत और अमेरिका के बीच होने जा रही है 2+2 बैठक और संभावित बेसिक एक्सचेंज एंड कोऑपरेशन अग्रीमेंट (BECA) को लेकर विस्तार से लेख छापा है. फुदान यूनिवर्सिटी में साउथ एशियन स्टडीज सेंटर के डायरेक्टर और अमेरिकन स्टडीज सेंटर के प्रफेसर झांग जियाडोंग ने कहा है कि अमेरिका और भारत के बीच रिश्ते मजबूत हो रहे हैं और इस बैठक पर ध्यान देने को लेकर चार कारक अहम हैं.

आज भारत पहुंचेंगे अमेरिकी विदेश मंत्री

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ 2 + 2 की बैठक का हिस्सा लेने के लिए भारत के लिए रवाना हो चुके हैं. ये बैठक चीन के बढ़ते वैश्विक प्रभाव का मुकाबला करने पर काफी हद तक ध्यान केंद्रित किया जाएगा.

पोम्पियो ने एक ट्वीट में कहा, भारत, श्रीलंका, मालदीव और इंडोनेशिया की मेरी यात्रा के लिए तैयार. “स्वतंत्र और मजबूत, और समृद्ध राष्ट्रों से बने स्वतंत्र और खुले Indo Pacific के लिए एक साझा दृष्टिकोण को बढ़ावा देने के लिए हमारे भागीदारों के साथ जुड़ने के अवसर के लिए आभारी.”

ये भी पढ़ें: धर्म बदलने के बाद दूसरी शादी करने जा रहे हैं हरीश साल्वे जानिए कौन है उनकी दुल्हन

बातचीत के लिए अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क टी ओशन भी पोम्पिओ के साथ हैं. पोम्पेओ की यात्रा से पहले विदेश विभाग ने कहा कि केवल दो वर्षों में तीसरी यूएस-भारत 2 + 2 मंत्रिस्तरीय वार्ता का आयोजन दोनों देशों द्वारा साझा राजनयिक और सुरक्षा उद्देश्यों के लिए दी गई उच्च-स्तरीय प्रतिबद्धता को दर्शाता है.